नोएडा बीएमडब्लू हिट एंड रन केस में अभी भी पुलिस खाली हाथ

मोहम्‍मद यूसुफ, नोएडा (18 अप्रैल): दिल्ली एनसीआर की सड़कों पर रईसज़ादे कैसे जानलेवा रेस लगाते हैं और हादसा कर फरारा हो जाते हैं, इसकी ताजा मिसाल नोएडा बीएमडब्लू हिट एंड रन केस है। शनिवार को चार लोगों को कुचलने वाला राईसाज़ादा विनोद अब भी पुलिस की पकड़ से दूर है। जिन चार लोगों को विनोद ने कुचला था, उनमें एक शख्स की मौत हो गई है।

मामला नोएडा के सेक्टर 24 थाना इलाके का है, जहां सड़क के किनारे एक छोटी सी पान की दुकान थी। चश्मदीदों के मुताबिक एक बीएमडब्लू कार तेज रफ्तार से आ रही थी। तभी एक बाइक वाले ने सामने के कट से अपनी बाइक मोड़ दी। रफ्तार तेज होने की वजह से ड्राइवर कार से अपना कंट्रोल खो बैठा।

पहले बीएमडब्लू कार ने बाइक वाले को अपनी चपेट में लिया और फिर तेज रफ्तार से सड़क के किनारे पान की दुकान पर खड़े गुलफाम और उसके साथी को उड़ा दिया। गुलफाम को इतनी तेज टक्कर लगी कि वो उड़कर सर्विस लेन में खड़ी एक कार का शीशा तोड़कर अंदर जा घुस गया। उसके सिर में गहरी चोट लगी। एम्स में गुलफाम ने आखिरी सांस ली।

पुलिस को जांच में पता चला है कि हादसे के वक्त रईसज़ादा विनोद ही कार चला रहा था। विनोद मयूर विहार फेज थ्री का रहने वाला है, वो नोएडा के सेक्टर 22 में एक जिम चलाता है। सवाल उठ रहे हैं कि सब कुछ पता होने के बावजूद भी पुलिस के हाथ अब भी खाली क्यों हैं। पुलिस ने विनोद के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है, लेकिन अब तक ना विनोद सामने आया है और ना ही पुलिस उस तक पहुंच पाई है।

विनोद की तलाश के लिए नोएडा पुलिस ने एक टीम दिल्ली भी भेजी है, लेकिन शनिवार की रात से विनोद घर पर नहीं है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक वो दिल्ली में कहीं अपने दोस्त या फिर रिश्तेदार के यहां छुपा हो सकता है।