बैंक बंद कर मैनेजर करीबियों को बांट रहा था कैश


नोएडा (14 नवंबर): देशभर में नए नोट के लिए हाहाकार मचा है। आमलोग से लेकर खासलोग तक बैंक और एटीएम के बाहर लाइन में खडे़ नजर आ रहे हैं, वहीं बैंकर्मचारी भी लोगों को इस मुसिबत से निजात दिलाने के लिए दिनरात एक किए हुए हैं। लेकिन नोएडा में एक बैंक मैनेजर की हरकत से लोग हैरान है। दरअसल नोएडा के फेज दो स्थित ओबीसी (ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स) का है।

बैंक मैनेजर मनोज शर्मा ने दो हजार रुपये पाने के लिए कतार में लगे दर्जनों लोगों को रविवार शाम चार बजे कैश खत्म होने की जानकारी देकर बैंक बंद कर दिया। इसके बाद करीबी लोगों को एक लाख और उससे ज्यादा नकदी बांटने लगा। इसकी शिकायत कतार में लगे व्यक्ति की तरफ से जिलाधिकारी एनपी सिंह से की गई। उन्होंने तत्काल कोतवाली फेज दो प्रभारी को मौके पर भेजा। एक व्यक्ति को एक लाख रुपये देते मैनेजर का पुलिस ने वीडियो बना लिया।


डीएम ने मैनेजर मनोज शर्मा के खिलाफ कार्रवाई के लिए ओबीसी बैंक के चेयरमैन और संयुक्त सचिव बैंकिंग सेवा भारत सरकार को रिपोर्ट भेज दी है। मंगलवार को बैंक खुलने तक मैनेजर के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो पुलिस की निगरानी में बैंक में कैश बांटा जाएगा।

जिलाधिकारी एनपी सिंह ने बताया, 'बैंक मैनेजर के खिलाफ चेयरमैन ओबीसी और संयुक्त सचिव बैंकिंग सेवा भारत सरकार को रिपोर्ट भेजी जा रही है, जिससे बैंक मैनेजर के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो सके। एक व्यक्ति को एक लाख रुपये देने का वीडियो भी सुरक्षित रख लिया गया है, जिसे जरूरत पड़ने पर चेयरमैन को उपलब्ध करा दिया जाएगा।'


जिलाधिकारी एनपी सिंह ने बताया कि बैंक मैनेजर मनोज शर्मा अपने लोगों को कैश देने के लिए बल्क में पहचानपत्र ले रहा था। जिस व्यक्ति को एक लाख रुपये दिए गए, उससे 25 लोगों के पहचानपत्र लिए गए थे। सभी पर अलग-अलग लोगों के हस्ताक्षर भी थे। कोतवाली फेज दो प्रभारी अनिल प्रताप सिंह ने बताया कि बैंक मैनेजर कैश देने के लिए अपने निकटस्थों को बुला रहा था। कुछ लोगों को उसने चालीस-चालीस हजार रुपये भी दिए हैं। उसके खिलाफ थाने की जीडी (जनरल डायरी) में तस्करा डाल दिया गया है।


अपने लोगों को कैश बांटते बैंक मैनेजर के पकड़े जाने के बाद लोगों ने हंगामा किया। कोतवाली फेज दो पुलिस ने जिलाधिकारी की तरफ से मैनेजर के खिलाफ की जा रही कार्रवाई की जानकारी दी गई, जिसके बाद लोग शांत हुए।