Blog single photo

इस साल नहीं दिया जाएगा साहित्य का नोबेल पुरस्कार, ये है बड़ी वजह

साहित्य में नोबेल पुरस्कार देने वाले स्वीडिश पैनल ने शुक्रवार को एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए कहा कि वह इस साल किसी को यह अवार्ड नहीं देने जा रहा है। उसने कहा कि ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि लेखकों की कमी है बल्कि इसलिए क्योंकि यौन उत्पीड़न को लेकर लोगों के गुस्से के चलते संस्था उलझी हुई है। अकादमी के स्थायी सचिव एंडर्स ओल्सन ने कहा, हमने पाया है कि अगले साहित्यकार के नाम की घोषणा से पहले जनता का भरोसा जीतने के लिए समय देने की जरूरत है।

नई दिल्ली (04 मई): साहित्य में नोबेल पुरस्कार देने वाले स्वीडिश पैनल ने शुक्रवार को एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए कहा कि वह इस साल किसी को यह अवार्ड नहीं देने जा रहा है। उसने कहा कि ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि लेखकों की कमी है बल्कि इसलिए क्योंकि यौन उत्पीड़न को लेकर लोगों के गुस्से के चलते संस्था उलझी हुई है। अकादमी के स्थायी सचिव एंडर्स ओल्सन ने कहा, हमने पाया है कि अगले साहित्यकार के नाम की घोषणा से पहले जनता का भरोसा जीतने के लिए समय देने की जरूरत है।

स्वीडिश रेडियो के मुताबिक, अकैडमी के अंतरिम स्थायी सचिव ऐंडर्स ऑलसन ने कहा था, 'हम इसके बारे में विचार कर रहे हैं, जल्द ही इस बारे में जानकारी दी जाएगी।' पीटर इंग्लेंड ने कहा, 'मौजूदा हालात में और प्राइज के हित को ध्यान में रखते हुए अकैडमी का भी मानना है कि इस साल के लिए पुरस्कार को स्थगित करना ही ठीक होगा।' आपको बता दें कि इंग्लेंड अकैडमी के उन पांच सदस्यों में से एक हैं, जो स्कैंडल के सामने आने के बाद अलग हो गए थे। बता दें कि #MeToo कैंपेन से प्रभावित होकर नवंबर में 18 महिलाओं ने आरोप लगाया था कि अकैडमी की सदस्य कैटरीना फ्रॉसटेंशन के फ्रेंच पति क्लॉउड अर्नाल्ट ने उनका यौन शोषण किया था। हालांकि अर्नाल्ट ने इन आरोपों से साफ इनकार किया है। महिलाओं के मीडिया में सामने आने के बाद अकैडमी ने उनके फोरम से सभी संबंध खत्म कर लिए। हालांकि अकैडमी भी दो खेमों में बंट गई और विवाद बढ़ता गया। 

NEXT STORY
Top