नारद स्टिंग मामले में ममता बनर्जी को बड़ा झटका

नई दिल्ली (21 मार्च): सुप्रीम कोर्ट ने नारद स्टिंग मामले में ममता बनर्जी को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने तृणमूल कांग्रेस (TMC) के नेताओं की मांग को ठुकराते हुए साफ किया है कि सीबीआई जांच पर रोक नहीं लगाई जाएगी।


सुप्रीम कोर्ट ने मामले में प्राथमिकी दर्ज करने का वक्त 72 घंटे से बढ़ाकर एक महीने कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट के निष्कर्ष और विपरीत टिप्पणी सीबीआई जांच को प्रभावित नहीं करेंगी।


- TMC नेताओं की दलील थी कि मामले की सीबीआई नहीं, बल्कि एसआईटी से जांच कराई जाए।

- इस स्टिंग में तृणमूल कांग्रेस के कई नेता कथित तौर पर घूस लेते नजर आए थे।

- कोलाकात हाइकोर्ट ने इस मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए थे।

- सीबीआई को 24 घंटे के भीतर स्टिंग ऑपरेशन से संबंधित सभी सामग्री और उपकरण अपने कब्जे में लेने और 72 घंटे के भीतर प्रारंभिक जांच को निष्कर्ष पर पहुंचाने के निर्देश दिए थे।

- कोर्ट ने कहा था कि प्रारंभिक जांच पूरी होने के बाद जरूरत पड़ने पर सीबीआई प्राथमिकी दर्ज करे और उसके बाद औपचारिक जांच शुरू करे।

- अदालत ने कहा था कि जिन लोगों पर आरोप लगे हैं, वे मंत्री, सांसद और राज्य के अन्य वरिष्ठ नेता हैं, इसलिए यह उचित होगा कि प्रारंभिक जांच की जिम्मेदारी राज्य की किसी एजेंसी की बजाय सीबीआई को सौंपी जाए।