भारत-नेपाल के अटूट रिश्ते, कोई चाह कर भी नहीं तोड़ सकता- राष्ट्रपति प्रणब मुकर्जी

नई दिल्ली (4 नवंबर): राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि भारत-नेपाल के रिश्ते अटूट हैं। इसे कोई चाहकर भी नहीं तोड़ सकता। भारत विकास के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। हम चाहते हैं कि पड़ोसी होने के नाते नेपाल भी आर्थिक रूप से समृद्ध बने। राष्ट्रपति अपने तीन दिवसीय नेपाल दौरे के दूसरे दिन गुरुवार को काठमांडू विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह का उद्घाटन करने के बाद सभा को संबोधित कर रहे थे।

इस मौके पर नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल उर्फ प्रचंड ने उन्हें मंच पर सम्मानित किया। मौके पर राष्ट्रपति ने कहा कि नेपाल अपने प्राकृतिक व अन्य संसाधनों का सदुपयोग कर काफी विकसित और समृद्ध हो सकता है। कार्यक्रम के बाद राष्ट्रीय सभागार में राष्ट्रपति का नागरिक अभिनंदन भी किया गया। इस दौरान सभा कक्ष में दोनों देशों के बुद्धिजीवी, उद्योगपति, व्यापारी व राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि और सरकार के कई मंत्री मौजूद थे।