अखाड़ा परिषद के लापता संत का कोई सुराग नहीं, संतो ने की उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से शिकायत

नई दिल्ली ( 26 सितंबर ): अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के कोठारी महंत मोहनदास के हरिद्वार से मुंबई जाते वक्त ट्रेन से लापता होने पर संत समाज बहुत चिंतित है। महंत मोहनदास ने राम रहीम, आसाराम बापू के साथ कई को भोंदू बाबा बताया था। महंत मोहनदास पिछले 10 दिनों से लापता हैं। उनके अपहरण होने का शक जताया जा रहा है।

त्र्यम्बकेश्वर में सोमवार को स्वामी सागरानंद की अध्यक्षता में अखाड़ा परिषद की आपातकाल बैठक बुलाई गई जिसके बाद महंत मोहनदास के गायब होने को लेकर हरिद्वार के कलेक्टर, पुलिस और उतराखंड के मुख्यमंत्री से इसकी शिकायत की गई है। हरिद्वार पुलिस की एक टीम उनकी खोज के लिए निकल पड़ी है। 

15 सितंबर को महंत मोहनदास हरिद्वार से मुंबई के लिए रेल से निकले थे। इसी दौरान महंत मोहनदास गायब हो गए इनके मोबाइल का आखरी लोकेशन मेरठ बताया गया। उसके आगे उनका मोबाइल बंद पाया गया। कुछ दिनों पहले ही महंत मोहनदास ने इलाहाबाद में हुई अखाड़ा परिषद की बैठक में भोंदू बाबा की लिस्ट जारी की थी जिसमें राम रहीम, आसाराम, निर्मल बाबा और राधे मां शामिल है। भोंदू बाबा की लिस्ट जारी करने के बाद महंत मोहनदास को धमकियां मिलनी शुरू हो गयी थीं।