मेडिकल एजुकेशन से खत्म होगा इंस्पेक्टर राज

नई दिल्ली (27 जुलाई): मेडिकल एजुकेशन सेक्टर से जल्द ही इंस्पेक्टर राज खत्म होने वाला है। मेडिकल काउंसिल की जगह अब देश में नेशनल मेडिकल कमीशन होगा। एक हाई पॉवर कमेटी सर्च कम-सेलेक्शन के जरिए कमीशन के मेंबर्स को नियुक्त करेगी।  कमीशन में मेडिकल फील्ड के अलावा  लॉ और इकोनॉमिक फील्ड के सदस्य भी शामिल किये जाएंगे।

शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए सरकारी और गैर सरकारी सभी मेडिकल कॉलेजों के एमबीबीएस छात्रों को एग्जिट एग्ज़ाम पास करना होगा। एमसीआई को नेशनल मेडिकल कमीशन में परिवर्तित का जिम्मा नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया, प्रधानमंत्री के अतिरिक्त प्रमुख सचिव पीके मिश्र और नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत की समिति को दिय गये हैं।

कमीशन के अंतर्गत चार स्वतंत्र बोर्ड होंगे। जो अंडर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट एजुकेशन, मेडिकल कॉलेज की मान्यता और उनकी शिक्षा का स्तर, मेडिकल रजिस्टर और ईथिक्स को अलग-अलग बिना किसी हस्तक्षेप के देखेंगे। एमसीआई को नेशनल मेडिकल काउंसिल में परिवर्तित करने वाला बिल सरकार संसद में शीघ्र ही पेश करने वाली है।