लालू पर और 'लाल' हुई JDU, तेजस्वी के इस्तीफे पर अड़ी

पटना (14 जुलाई): लालू यादव और उनके परिवार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद बिहार में सियासी पारा अपने उफान पर है। जेडीयू और आरजेडी में तकरार थमने का नाम नहीं ले रहा है। जहां कांग्रेस किसी तरह से नीतीश और लालू को मनाकर महागठबंधन को बचाने की कोशिश में जुटी है वहीं बीजेपी किसी भी सूरत में नीतीश और लालू को अलग करना चाहती है।

इन सबके बीच राज्य के उप मुख्यमंत्री और लालू यादव के छोटे बेटे तेजस्वी के इस्तीफे के मसले पर जेडीयू के अल्टीमेटम कल खत्म हो रहा है। भ्रष्टाचार के आरोपों पर जेडीयू पहले ही तेजस्वी यादव के सफाई को खारिज कर चुकी है। वहीं अब जेडीयू ने लालू यादव से तेजस्वी यादव के इस्तीफे के साथ-साथ अपनी पूरी संपत्ति का खुलासा करने की मांग की है।

जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने आज एकबार फिर जहां आरजेडी से पूरे मामले में सफाई की मांग की वहीं उन्होंने आरजेडी सुप्रीमों से अपनी संपत्ति के खुलासे की भी मांग की। साथ ही उन्होंने कहा कि आरजेडी अपने 80 विधायकों का घमंड ना दिखाए। 2015 के चुनाव में नीतीश कुमार की वजह से आरजेडी को 80 सीटें आई। उसके पहले आरजेडी को महज 22 सीटें मिली थी।

साथ ही जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा और आरजेडी 80 विधायक होने का भ्रम न पाले। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार 5 मिनट में कुर्सी छोड़ देते है। इतिहास उठाकर देख लिजिए हमें कुर्सी छोड़ने में 5 मिनट भी नहीं लगेगा।