''BJP-RSS से जुड़ा व्यक्ति देशभक्त और बाकी देशद्रोही''

पटना (15 फरवरी): बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और अन्य छात्रों की गिरफ्तारी को गलत बताते हुए कहा कि इस केंद्रीय विश्वविद्यालय में लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा से जो जुड़ा है, वह देशभक्त है और बाकी लोग देशद्रोही हैं, ऐसा नहीं चलेगा।

पटना में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि प्रतिष्ठित जेएनयू में लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश की जा रही है। जेएनयू में जो लोग देश विरोधी नारे लगा रहे थे, उन पर कारवाई जरूर हो, लेकिन कार्रवाई की आड़ में निर्दोष छात्रों को न फंसाया जाए। जेएनयू में अगर कोई कार्यक्रम हो रहा है तो इसका मतलब यह नहीं कि वहां के छात्र और प्रोफेसर उसका समर्थन करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कि आरएसएस से जुड़े छात्र संगठन एबीवीपी के इशारे पर सबकुछ किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बगैर प्रमाण के देश के बाहरी ताकतों के साथ छात्र का नाम जोड़ना गलत है। वामपंथी ताकतों के साथ वैचारिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन वे देशद्रोही नहीं हैं। इशरत जहां को मैंने कभी भी बिहार की बेटी नहीं कहा है। जिन लोगों ने मेरे मुंह में ये बात डाली है उन पर मैं कानूनी कारवाई करूंगा। मोदी सरकार अफजल गुरु की बात कर रही है, जबकि जम्मू-कश्मीर विधानसभा में कुछ निर्दलीय विधायक अफजल गुरु के पक्ष में प्रस्ताव लाते रहे हैं। फिर भी भाजपा नेता राम माधव सरकार बनाने के लिए उन विधायकों से क्यों मिले?