मोदी से मिले नीतीश तो बदल गए सुर, अब पेंतरा-पाला बदला !

पटना (11 जनवरी): बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार सियासत के धुरंधर खिलाड़ी माने जाते हैं। नीतीश कुमार ने हार्दिक पटेल की गुजरात में 28 जनवरी को आयोजित रैली में शामिल होने से इनकार कर दिया है। जेडीयू ने इसकी सूचना हार्दिक पटेल को दे दी गई है। जेडीयू ने कहा है कि नीतीश ने इसके पीछे वजह बताई है कि चूंकि पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश समेत कुछ अन्य राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, इसलिए वह हार्दिक की रैली में नहीं जा पाएंगे।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बीजेपी के बीच दूरियां कम होने के संकेत मिल रहे हैं। नोटबंदी के मोदी के फैसले का जहां एक तरफ नीतीश ने जमकर समर्थन किया वहीं पटना में मोदी की उपस्थिति में नीतीश उनके साथ बेहद सहज नजर आए। इसके बाद से कयासों का दौर तेज हो गया कि शायद नीतीश का झुकाव एक बार फिर बीजेपी की तरफ हो रहा है।

गुजरात से बाहर राजस्थान में रह रहे हार्दिक ने पिछले महीने पटना में नीतीश कुमार से मुलाकात की थी। नीतीश ने हार्दिक का गर्मजोशी से स्वागत किया था और वादा किया था कि वह 28 जनवरी को उनकी रैली में शामिल होंगे।  दोनों के बीच दो घंटे की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए एक नारा तय किया गया था- मोदी हराओ देश बचाओ।