बगावती तेवर पर नीतीश सख्त, जेडीयू से निकाले जा सकते हैं शरद यादव

नई दिल्ली (10 अगस्त): बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में महागठबंधन तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बना लिया है। उसके बाद से ही नीतीश कुमार और जेडीयू के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद शरद यादव के बीच तनातनी चल रही है। सूत्रों की मानें तो शरद यादव को पार्टी से निलंबित किया जा सकता है, उनपर अनुशासनात्मक कार्रवाई हो सकती है। 

शरद यादव को राज्यसभा के नेता पद से हटा सकती है, पार्टी व्हिप का उल्लंघन करने पर उनकी सदस्यता जा सकती है। उनकी जगह किसी नए नेता का चुनाव हो सकता है।

गौरतलब है कि जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव गुरुवार से बिहार की तीन दिवसीय यात्रा शुरू करने वाले हैं। शरद यादव ने साथ ही बताया कि उन्होंने समान विचारों वाले नेताओं की 17 अगस्त को दिल्ली में बैठक बुलाई है।

इसके साथ ही शरद यादव ने गुजरात के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस नेता अहमद पटेल के पक्ष में वोट डालने का दावा करने वाले पार्टी के एकमात्र विधायक छोटू भाई वसावा का भी समर्थन किया है। उन्होंने अहमद पटेल को बधाई भी दी थी।