संसद में नितिन गडकरी ने कहा- आगरी एक्सप्रेस-वे पर 3 साल में 390 लोग गंवा चुके हैं जान

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(8 जुलाई): आगरा एक्सप्रेस-वे पर हुआ हादसा सोमवार को राज्यसभा में भी गूंजा। समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सदस्य रामगोपाल यादव ने मामला उठाया, इसका जवाब देते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यमुना एक्सप्रेस-वे उत्तर प्रदेश सरकार के अंतर्गत आता है। हमने प्रदेश सरकार से कार्रवाई करने के लिए कहा है।

 केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि यमुना एक्सप्रेस-वे पर हुए सड़क हादसों में 2016 में 133, 2017 में 146 और 2018 में 111 लोग जान गंवा चुके हैं।  मोटर वाहन संशोधन अधिनियम बहुत लंबे समय से संसद में लंबित है, यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है। सड़क दुर्घटना के आंकड़ों में यूपी अभी भी शीर्ष पर है।

 नितिन गडकरी ने कहा कि मुद्दा यह है कि हर तीसरे ड्राइवर के पास फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस है,लेकिन हम उन्हें रोक नहीं सकते हैं। सरकार पांच साल से मोटर वाहन संशोधन बिल लेकर आ रहे हैं, लेकिन उसे पास नहीं किया जा रहा है. मेरी अपील है कि इस बिल को पास करने में सहयोग करें। बता दें कि आगरा एक्सप्रेस-वे हादसे में 29 लोगों जान चली गई है।

वहीं, सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यात्रियों की मौत पर दुख जताते हुए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को घायलों को हर संभव मदद उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। घटना के बाद यूपी रोडवेज ने मुआवजे का ऐलान कर दिया है। मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी।

 एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि लखनऊ से दिल्ली की तरफ जा रही बस यमुना एक्सप्रेसवे पर रेलिंग तोड़ते हुए नाले में जा गिरी। घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। हादसे में 29 लोगों की मौत हो गई है, जिसमें एक बच्ची भी शामिल है। एसएसपी ने बताया कि हो सकता है ड्राइवर की आंख लगने की वजह से हादसा हुआ हो। फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन लगभग पूरा हो चुका है। लोगों के सामान से मृतकों की शिनाख्त करने की कोशिश की जा रही है।