जेल में ही रहेगा भगोड़ा नीरव मोदी, लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने तीसरी बार खारिज की जमानत याचिका

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 मई):  तेरह हजार करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले के मुख्य अभियुक्त हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत तीसरी बार भी खारिज हो गयी है। इस बीच नीरव के प्रत्यर्पण के लिए भारतीय एजेंसियों अपनी कोशिश और तेज कर दी है।  नीरव ने बुधवार को लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट में तीसरी बार जमानत की अर्जी दी लेकिन कोर्ट ने फिर से उसकी अर्जी खारिज कर दी। अब 30 मई को नीरव फिर से कोर्ट में पेश होगा। 

नीरव मोदी 19 मार्च को तब गिरफ्तार हुआ था जब वह बैंक में अकाउंट खुलवाने पहुंचा था। बैंक के ही एक कर्मचारी ने पुलिस को इसकी सूचना दी। तभी से वो लंदन के वांड्सवर्थ जेल में है। उसकी जमानत याचिका 29 मार्च को दूसरी बार  खारिज हुई थी। नीरव मोदी और उसका मामा मेहुल चौकसी फ्रॉड के मुख्य आरोपी हैं नीरव मोदी कोर्ट में एम्मा अर्बथनॉट के सामने पेश हुआ। उसके वकीलों ने आश्वासन दिया कि नीरव लंदन के ही फ्लैट में रहेगा और सुनवाई में पेश होगा लेकिन जज ने एक न सुनी और जमानत की याचिका खारिज कर दी।

भारत की तरफ से कोर्ट में पेश हुए क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस ने कहा कि नीरव मोदी ने पिछली बार के ही तर्क दोहराए हैं और ऐसा नया कुछ भी नहीं पेश किया जिसकी बुनियाद पर बेल दी जाए। जज को भी भरोसा नहीं हुआ कि नीरव को बेल दे दी जाएगी तो वह दोबारा कोर्ट में पेश होगा। इसी के चलते जज ने जमानत याचिका खारिज कर दी। प्रॉसिक्यूशन ने नीरव के भागने की भी आशंका जाहिर की।