बाबा हरदेव सिंह का निधन: 27 देशों में फैला है मिशन, हर साल करवाते थे 70,000 यूनिट रक्तदान

नई दिल्ली (13 मई): संत निरंकारी मिशन के प्रमुख बाबा हरदेव सिंह का कनाडा में हुए एक सड़क हादसे में निधन हो गया। वे 62 साल के थे। इनके संत निरंकारी मिशन दुनिया भर के 27 देशों में फैला हुआ है और इसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है। देश और दुनिया के लाखों-करोड़ों लोग इस मिशन से जुड़े हुए हैं। आइए जानते हैं बाबा हरदेव सिंह के बारे में कुछ खास बातें...

> 1971 में उन्होंने निरंकारी सेवा दल ज्वॉइन किया।  > 1975 में इन्होंने निरंकारी यूथ फोरम का गठन किया तथा सन्त निरंकारी सेवादल में भी सक्रिय भूमिका निभाई। > 1980 में पिता की हत्या के बाद इन्हें निरंकारी मिशन का प्रमुख बना दिया गया था।  > ‘संयुक्त राष्ट्र' ने भी इनके मिशन का सम्मान करते हुए अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित किया था। > इनके कार्यों को ध्यान में रखकर यूरोपियन पार्लियामेंट (मुख्यालय) में इनका स्वागत किया गया था।  > बाबा हरदेव सिंह के मार्गदर्शन में रक्तदान भी मिशन का एक महत्वपूर्ण अभियान बना। > रक्तदान मिशन में अब तक छ: लाख यूनिट से अधिक रक्तदान किया जा चुका है और प्रति वर्ष सैकड़ों रक्तदान शिवरों में लगभग 70,000 यूनिट रक्तदान मिशन द्वारा किया जा रहा है।