ये हैं निपाह वायरस के लक्षण, बचने के लिए अपनाएं ये तरीके

नई दिल्ली (24 मई): केरल के कोझिकोड में निपाह वायरस ने तबाही मचा रखी है। लोगों की मौत का सिलसिला जारी है। राज्य सरकार को अलर्ट जारी करना पड़ा है। कंट्रोल रूम भी बनाने पड़े। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने लोगों को इस जानलेवा वायरस से बचने के तरीके अपनाने की अपील की है। इस बात की पुष्टि हो गयी है कि हाल के दिनों में बुखार की वजह से जो मौतें हुई हैं, वे निपाह वायरस के कारण ही हुई हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने जांच के बाद इस पर मुहर लगायी है। 

निपाह वायरस क्या है?

-यह तेजी से उभरता वायरस है, जो जानवरों और मनुष्यों में गंभीर बीमारी को जन्म देता है.

-वायरस को पुराने चमगादड़ ले जाते हैं, जिन्हें फ्रूट बैट भी कहा जाता है.

-सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के मुताबिक, निपाह वायरस का इन्फेक्शन इन्सेफलाइटिस से जुड़ा है, जिसमें दिमाग को नुकसान होता है.

 

बीमारी के लक्षण क्या?

-ये वायरस 3 से 14 दिन तक तेज बुखार और सिरदर्द की वजह बन सकता है.

-24-48 घंटों में मरीज कोमा में पहुंच सकता है.

-इन्फेक्शन के शुरुआती दौर में सांस लेने में समस्या होती है.

-ज्यादातर मरीजों में न्यूरोलॉजिकल दिक्कतें भी हो सकती हैं.

-दिमाग में सूजन, तेज बुखार और सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द होता है.

 

ऐसे करें बचाव

-ऐसे फलों को न खायें, जो पेड़ से गिरे हों या काफी गल गये हों.

-उस व्यक्ति के नजदीक न जायें, जो इस वायरस से पीड़ित हो.

-इस वायरस की वजह से जिनकी मौत हुई हो, उनके शव से भी दूर रहें.

-अगर आपको तेज बुखार हो, तो अस्पताल जायें.

राजस्थान में भी सतर्कता के निर्देशराजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सर्राफ ने प्रदेश में निपाह वायरस की रोकथाम के लिए अधिकारियों को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। सर्राफ ने कहा कि केरल में अनेक प्रवासी राजस्थानी निवास करते हैं और उनका राजस्थान में आना-जाना लगा रहता है। लिहाजा अतिरिक्त सावधानी बरती जाए।

गोवा सरकार भी सतर्कगोवा सरकार ने निपाह वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राज्य के चिकित्सकों को सतर्क रहने को कहा है। स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने कहा कि अगर किसी मरीज में इस वायरस के लक्षण दिखते हैं तो चिकित्सकों से फौरन उस व्यक्ति के नमूने जांच के लिए भेजने को कहा गया है। फिलहाल चिंता की कोई बात नहीं है।