अमेरिका बोला- बस बहुत हुआ, युद्ध चाहता है उत्तर कोरिया

नई दिल्ली(4 सितंबर): उत्तर कोरिया के छठे परमाणु परीक्षण के बाद अमेरिका का रुख बेहद कड़ा है। एक तरफ राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप कार्रवाई के संकेत दे चुके हैं तो दूसरी तरफ अमेरिकी राजदूत ने संयुक्त राष्ट्र में इस मुद्दे को जोरशोर से उठाया है। 

- संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निकी हेली ने कहा, 'मैं सुरक्षा परिषद के सदस्यों से कहूंगी, बस बहुत हो चुका।' उन्होंने यह भी कहा कि किम जोंग उन का कदम रक्षात्मक नहीं है। उत्तर कोरिया परमाणु शक्ति के रूप में मान्यता चाहता है और युद्ध की मांग कर रहा है।

- उत्तर कोरिया के हाइड्रोजन बम के परीक्षण पर चर्चा के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सोमवार को आपात बैठक बुलाई। उत्तर कोरिया ने रविवार को घोषणा की थी कि उसने ऐसे हाइड्रोजन बम का सफलतापूर्वक टेस्ट किया है जो बलिस्टिक मिसाइल पर लोड हो सकता है। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निकी हेली ने अपने ट्विटर पर आपात बैठक की जानकारी दी। 

- निकी हेली ने ट्वीट किया, 'जापान, फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम और साउथ कोरिया के साथ मिलकर हमने सोमवार को उत्तर कोरिया के मुद्दे पर सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई है।' यह मीटिंग संयुक्त राष्ट्र के ओपन चैंबर में होगी। 

- इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासचिव ऐंतोनियो गुतेरस ने भी उत्तर कोरिया द्वारा हाइड्रोजन बम के परीक्षण किए जाने को लेकर निंदा की और क्षेत्रीय सुरक्षा को अस्थिर करने वाला कदम बताया। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने रविवार को परीक्षण के बाद ट्वीट किया, 'यूएस उत्तर कोरिया के खिलाफ कई विकल्प पर विचार कर रहा है। उन देशों के साथ भी यूएस व्यापार बंद कर सकता है जो उत्तर कोरिया के साथ व्यापार कर रहे हैं।'