विराट का निकनेम है चीकू, जानिए और खिलाड़ियों के ऐसे ही नाम...

नई दिल्ली (15 मार्च): टी-20 वर्ल्ड कप की सबसे मजबूत दावेदार टीम इंडिया के खिलाड़ियों को उनके नाम के अलावा दूसरे नामों से भी पुकारा जाता है। जैसे टीम में विराट को प्यार से चीकू के नाम से पुकारते हैं। कप्तान धोनी भी उन्हें इसी नाम से बुलाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि उन्हें यह नाम कहां से मिला...  

कोच ने दिया नाम विराट कोहली का ये निकनेम दिल्ली के कोच अजीत चौधरी ने रखा है। उस वक्त विराट काफी छोटे थे। अजीत ने ये नाम उनके हेयर स्टाइल को देखते दिया था। 

शिखर धवन (गब्बर) रणजी ट्रोफी के मैचों के दौरान जब अन्य खिलाड़ी जब खराब प्रदर्शन करते तो धवन शोले फिल्म का मशहूर डॉयलॉग 'सुअर के बच्चों' कहकर उनका हौसला बढ़ाया करते थे। इसी के बाद से टीम के साथी उन्हें गब्बर कहने लगे।

कैप्टन कूल- धोनी महेंद्र सिंह धोनी को उनके कूल मिजाज के कारण कैप्टन कूल कहा जाता है। लोग उन्हें प्यार से माही भी बुलाते हैं।

शैरी - नवजोत सिंह सिद्धू सिद्धू ने बताया था कि ये नाम उनके पिता ने दिया था। बता दें कि शैरी एक खास ड्रिंक का नाम है। जिसे उनके पिता सिद्धू के जन्म के वक्त पी रहे थे।

रोहित शर्मा -हिटमैन भारतीय क्रिकेट टीम के इस बल्लेबाज का नाम है हिटमैन। कोलकाता के ईडन गॉर्डन्स पर श्रीलंका के खिलाफ खेली गई 264 रनों की पारी ने उन्हें यह नाम दिलाया।

सर - रवींद्र जडेजा रवींद्र जडेजा के नाम के साथ 'सर' जुड़ने का किस्सा बेहद रोचक है। किसी ने रवींद्र जडेजा के विकीपीडिया पेज पर उन्हें लोकोपकारक और नोबेल प्राइज विजेता बता दिया। इसके बाद सोशल मीडिया पर इसकी खूब चर्चा हुई और रवींद्र जडेजा के साथ 'सर' का उपनाम जुड़ गया।

हरभजन सिंह - टर्बनेटर  हरभजन सिंह को टर्बनेटर कहा जाता है। 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई सीरीज में उन्होंने स्टीव वॉ को खूब परेशान किया था। यह नाम उन्हें ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने ही दिया था। 

जैमी, द वॉल- राहुल द्रविड़ उनके पिता शरद जैम बनाने वाली कंपनी (किसान) में काम करते थे। इसलिए उन्हें जैमी कहा गया। क्रिकेट ने उन्हें द वॉल नाम दिया।

जंबो- अनिल कुंबले अनिल कुंबले को ये नाम नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया था। बॉल को बाउंस देने की उनकी क्षमता के कारण ही उन्हें यह नाम मिला।

वीवीएस लक्ष्मण 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 टेस्ट मैचों लक्ष्मण ने 494 रनों की पारी खेली। लक्ष्मण की पारियों ने भारत को सीरीज जिताने में मदद की। आपको कोलकाता में खेली गई 281 रनों की पारी तो याद होगी ही। इसके बाद ही लक्ष्मण को वैरी-वैरी स्पेशल लक्ष्मण कहा जाने लगा।

सचिन तेंडुलकर तेंडुलकर को मास्टर ब्लास्टर, द लिटिल चैंपियन, गॉड ऑफ क्रिकेट और न जाने कई नामों से उन्हें पुकारा जाता रहा है। यह नाम उन्हें उनके शानदार खेल और अपने दम पर टीम को जीत दिलाने के लिए मिले हैं।

कपिल देव - द हरियाणा हरिकेन 'द हरियाणा हरिकेन' यह नाम था भारत को पहला वर्ल्ड कप दिलाने वाले कपिल देव का। विपक्षी टीम पर अटैक के जरिए कपिल ने कई बार भारतीय टीम को जीत दिलाने का काम किया। इसलिए उन्हें यह नाम दिया गया।

मुल्तान का सुल्तान- वीरेंद्र सहवाग वीरेंद्र सहवाग ने मुल्तान में पाकिस्तान के खिलाफ ट्रिपल सेन्चुरी लगाई थी। इसके बाद उन्हें मुल्तान का सुल्तान कहा जाने लगा। हालांकि उन्हें वीरू के नाम से पुकारा जाता है।