NIA पूछताछ में अलगाववादी नेताओं का बड़ा खुलासा, कहा- गिलानी को पाकिस्तान से मिलते थे पैसे

नई दिल्ली (30 मई): भारत लंबे समय से कहता आ रहा है कि घाटी में जारी उपद्रव के लिए पाकिस्तान जिम्मेदार और वो इसके लिए फंडिंग कर रहा है। पाकिस्तान के इशारे पर यहां के अलगाववादी नेता घाटी की अमन चैन के दुश्मन बने हुए हैं। इस बात की एकबार फिर पुष्टि हुई है।  राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA पूछताछ में अलगाववादी नेताओं ने कई बड़े सनसनीखेज खुलासे किए हैं।  NIA सूत्रों मिल रही जानकारी के मुताबिक अलगाववादी नेताओं ने पाकिस्तान से फंडिंग की बात कबूल की है।

अलगाववादी नेताओं ने  NIA के सामने कबूला है कि सैयाद अली शाह गिलानी को पाकिस्तान से अलग-अलग चैलनों के जरिएपैसे मिलते थे। सैयाद अली शाह गिलानी को ये पैसे हवाला और क्रॉस बॉर्डर ट्रेड से मुख्य रुप से मिलता था। अलगाववादी नेताओं ने कहा कि हम तो इस खेल के महज के मोहरे हैं, असली बजीर तो कोई और है।

अलगाववादी नेताओं के इस खुलासे और कबूलनामें के बाद माना जा रहा है NIA जल्द सैयद अली शाह गिलानी पर शिकंजा कस सकती है। सूत्रों के मुताबिक़ NIA अब तक कि जांच में कई पुख्ता सबूत मिले हैं। जिनके आधार पर NIA पाक फंडिंग के मामले में जल्द ही FIR भी दर्ज कर सकती है।

आपको बता दें कि पाक फंडिंग को लेकर NIA पिछले दो दिनों से अलागववादी नेता फारूक अहमद डार उर्फ ‘बिट्टा कराटे’, जावेद अहमद बाबा उर्फ ‘गाजी’ और नईम खान से पूछताछ कर रही है। NIA की पूछताछ कल तीसरे दिन भी जारी रहेगी।