NIA ने फिलीपींस जाकर महिला आईएसआईएस आतंकी से की पूछताछ

नई दिल्ली(4 मई): एनआईए ने फिलीपींस में आतंकी संगठन आईएसआईएस की एक महिला आतंकवादी से पूछताछ की है। यह महिला एनआईए द्वारा गिरफ्तार किए जा चुके भारतीय कैडरों को देश में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने का काम कराती थी।विदेश में जांच का ब्योरा देते हुए एजेंसी के प्रवक्ता ने बताया कि 2015 और 2016 में दर्ज आईएसआईएस से संबंधित मामलों की एनआईए जांच के दौरान यह पाया गया कि तीन आरोपी मोहम्मद नासिर (तमिलनाडु), मोहम्मद सिराजुद्दीन और अदनान हसन (कर्नाटक) फेसबुक, व्हाट्सएप और टेलीग्राम जैसे सोशल प्लेटफॉर्म्स से करेन आएशा अल मुस्लिमा उर्फ करेन आएशा हमीदों नाम की महिला से ऑनलाइन संपर्क में थे। इसके अलावा यह भी पता चला कि करेन इन तीनों के अलावा कई अन्य भारतीयों के साथ भी ऑनलाइन और फोन से संपर्क में थी।तीनों आरोपियों से पूछताछ और गिरफ्तारी के समय उनके पास से जब्त किए गए डिजिटल उपकरणों से हासिल डाटा से महिला के नाम का खुलासा हुआ है। इन आरोपियों को चार्जशीट में नामजद किया जा चुका है।करेन मनीला में टैग्युग शहर के बारंगे उसूसान गांव की रहने वाली है और वह 2014 और दिसंबर 2015 के बीच फिलीपींस्स में सर्वाधिक सक्रिय आईएसआईएस आतंकवादियों में से एक थी। वह कई फेसबुक पेज, व्हाट्सएप ग्रुप और टेलीग्राम चैनल चला रही थी और भारत समेत कई देशों से अपने ऑनलाइन सहयोगियों को आईएसआईएस की तरफ से लड़ने के लिए उन्हें उकसा रही थी।आरोपियों के खिलाफ सबूत इकट्ठे करने और अपराध में उसकी भूमिका का पता लगाने के लिए दिल्ली और जयपुर की विशेष एनआईए अदालत द्वारा जारी अनुरोध पत्रों को उचित माध्यम से फिलीपींस के सक्षम न्यायिक प्राधिकारियों को जांच में कानूनी सहायता प्राप्त के लिए भेजा गया।उसे 11 अक्तूबर 2017 को फिलीपींस के नेशनल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन ने गिरफ्तार किया और उसपर बगावत के लिए भड़काने का आरोप लगाया गया है। अनुरोध पत्र के मद्देनजर एनआईए का दो सदस्यीय दल 24 से 28 अप्रैल के बीच फिलीपींस में था और उसने महिला से विस्तार से पूछताछ की।उससे पूछताछ के दौरान सामने आए कई तथ्यों की पुष्टि हुई और आईएसआईएस की विचारधारा को फैलाने में भारत में ऑनलाइन तरीके से एक्टिव उसके सहयोगियों और विदेश में रह रहे कुछ भारतीयों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिली, जिन्होंने उसकी आर्थिक मदद की थी।प्रवक्ता ने बताया कि प्राप्त जानकारी की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि एनआईए अब फिलीपींस की ओर से कानूनी तरीके से सबूत सौंपे जाने का इंतजार कर रही है ताकि गिरफ्तार लोगों के खिलाफ अदालत में उसका मामला और पुख्ता हो।