Blog single photo

NIA के छापे में 10 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार, मौलवी से लेकर सिविल इंजिनियर शामिल

NIA की टीम ने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) के एक नए मॉड्यूल 'हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम' के खिलाफ दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 17 जगहों पर छापे मारे और 10 लोगों को गिरफ्तार किया। आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के महानिरीक्षक (आईजी) असीम अरुण ने लखनऊ में बताया कि जांच एजेंसी की ओर से हिरासत में लिए गए 10 लोगों में से पांच को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले से पकड़ा गया। उत्तर प्रदेश के एटीएस के साथ एक संयुक्त अभियान में एनआईए ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। अधिकारियों ने बताया कि पांच अन्य को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा की मदद से उत्तर-पूर्व दिल्ली से हिरासत में लिया गया।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 दिसंबर): NIA की टीम ने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) के एक नए मॉड्यूल 'हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम' के खिलाफ दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 17 जगहों पर छापे मारे और 10 लोगों को गिरफ्तार किया। आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के महानिरीक्षक (आईजी) असीम अरुण ने लखनऊ में बताया कि जांच एजेंसी की ओर से हिरासत में लिए गए 10 लोगों में से पांच को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले से पकड़ा गया। उत्तर प्रदेश के एटीएस के साथ एक संयुक्त अभियान में एनआईए ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। अधिकारियों ने बताया कि पांच अन्य को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा की मदद से उत्तर-पूर्व दिल्ली से हिरासत में लिया गया। 

अमरोहा से मॉड्यूल के प्रमुख सुहैल को हिरासत में लिया गया। उसे एक पिस्टल और विस्फोटक के साथ गिरफ्तार किया गया है। दिल्ली से गिरफ्तार किए गए पांच लोगों के पास सात पिस्टल, तलवारें थीं। दिल्ली में पांच टीमें थीं। अनस, जुबेर मलिक, आजम और जाहिद को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया। संदिग्धों ने आरएसएस के दिल्ली कार्यालय और दिल्ली पुलिस के हेडक्वार्टर की रेकी की थी। 

यूपी एटीएस का कहना है अमरोहा के संदिग्ध टिपऑफ को लेकर मेरठ में छापेमारी शुरू की गई। NIA ने बताया, 100 से ज्यादा मोबाइल फोन, 135 से ज्यादा सिम कार्ड बरामद हुए हैं। 7.5 लाख रुपए से अधिक और भारी मात्रा में गोला बारूद भी बरामद किया गया है। एक रॉकेट लॉन्चर भी प्राप्त किया गया है। अभी और भी गिरफ्तारी हो सकती हैं। विदेशी से एक हैंडलर उनको निर्देशित कर रहा था।'  

एनआईए के आईजी ने कहा, 'दिल्ली के सीलमपुर और यूपी के अमरोहा, हापुड़, मेरठ और लखनऊ में तलाशी ली गई। इनके निशाने पर राजनीतिक व्यक्ति, अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति और महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रतिष्ठान थे। तैयारी के स्तर से पता चलता है कि उनका उद्देश्य निकट भविष्य में रिमोट कंट्रोल विस्फोटों और फिदायीन हमलों द्वारा विस्फोट करना था। यह एक नया ISIS प्रेरित मॉड्यूल है। मॉड्यूल का गैंग लीडर मुफ्ती सोहेल है जो दिल्ली में रहता है और यूपी के अमरोहा का मूल निवासी है जहां वह एक मस्जिद में काम करता है।

अमरोहा का है मुख्य आरोपी, मस्जिद में है मौलवी 

एनआईए के मुताबिक इन आतंकियों का मुखिया मौलवी सुहैल अमरोहा का है और दिल्ली के जाफराबाद में रहता था। वह एक मस्जिद में मौलवी था। गिरफ्तारी में से 5 दिल्ली और 5 यूपी के हैं। 

आरोपियों में सिविल इंजिनियर, ड्राइवर और मौलवी शामिल 

आईएसआईएस से प्रभावित इस मॉड्यूल में एमिटी यूनिवर्सिटी में सिविल इंजिनियरिंग करने वाला छात्र, ऑटो ड्राइवर, मौलवी, गारमेंट्स का बिजनस करने वाला युवक शामिल है। इनमें से ज्यादातर की आयु 20 से 30 साल की है। संदिग्धों में एक महिला भी शामिल है।

वॉट्सऐप और टेलिग्राम पर करते थे बात 

एनआईए के मुताबिक, ये संदिग्ध वॉट्सऐप और टेलिग्राम पर एक-दूसरे से करते थे। एनआईए ने बताया कि हमारे पास जो इनपुट्स हैं, उसके मुताबिक रिमोट कंट्रोल बम और फिदायीन हमलों में इनका मुख्य फोकस था। इसके लिए ये लोग बुलेट प्रूफ जैकेट्स बनाने में भी जुटे थे। 3 से 4 महीने पहले ही यह मॉड्यूल शुरू हुआ था। 100 से ज्यादा मोबाइल फोन भी बरामद हुए हैं। 135 सिम कार्ड्स, कई लैपटॉप और मेमोरी भी बरामद की हैं।  

Tags :

NEXT STORY
Top