NGT का बड़ा आदेश: तमिलनाडु में फिर से खुलेगा स्टरलाइट प्लांट


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (15 दिसंबर): नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल यानी NGT तमिलनाडु में एकबार फिर से स्टरलाइट प्लांट फिर से खोलने के आदेश दिए हैं। इस मई में 13 लोगों की जान जाने के बाद राज्य में स्टरलाइट प्लांट पर पाबंदी लगा दी गई है। NGT के ताजा फैसले को वेदांता के लिए बड़ी राहत माना जा रहा है। एनजीटी का कहना है कि स्टरलाइट को बंद करना 'अन्यायपूर्ण' है। साथ ही एनजीटी ने वेदांता लिमिटेड को राज्य में अगले तीन साल में कल्याणकारी योजनाओं पर 100 करोड़ रुपये खर्च करने का आदेश दिया है। वहीं तमिलनाडु सरकार ने एनजीटी के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाने का ऐलान किया है।



एनजीटी के इस फैसले पर तमिलनाडु मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने कहा है, 'हम स्टरलाइट के मुद्दे पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे।' संयंत्र के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों की शिकायत थी कि संयंत्र से आसपास के इलाके में प्रदूषण फैल रहा है और इसका उनके जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। स्टरलाइट कॉपर का प्लांट है और औद्योगिक विकास के लिए इसका उत्पादन जरूरी है। स्टरलाइट ने तूतीकोरिन में भारी निवेश कर रखा है और ऐसे में संयंत्र को बंद करने से उसे भारी नुकसान होता।



आपको बता दें कि तमिलनाडु में तूतीकोरिन में 22 मई 2018 को स्टरलाइट प्लांट के विरोध में प्रदर्शन हुए थे। इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस की गोलीबारी में 13 लोगों की जान चली गई थी। उच्च न्यायालय ने उस मामले में नागरिक प्रशासन के अधिकारियों समेत पुलिस के शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था। बाद में राज्य सरकार ने संयंत्र को बंद करने का आदेश दे दिया। इस आदेश के खिलाफ ही वेदांता ने एनजीटी में याचिका दायर की थी।