अब देश में नहीं उड़ेंगे चीनी मांझे वाले पतंग, NGT ने नायलॉन-सिंथेटिक मांझों पर लगाया बैन

नई दिल्ली (12 जुलाई): अब देश में 'जनालेवा' यानी खतरनाक चीनी माझे का इस्तेमाल नहीं हो सकेगा। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल यानी NGT ने देश में नाइलॉन या किसी भी सिंथेटिक मटेरियल से बने माझे के आयात, बिक्री और इस्तेमाल पर तत्काल प्रभाव से पाबंदी लगा दी है। नाइलॉन या सिंथेटिक मटेरियल खतरनाक मांझों की वजह से हर साल देश के अलग-अलग हिस्सों से कई हादसे हो चुके हैं। जस्टिस स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने 'पीपुल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल' (पेटा) के मामले में यह फैसला सुनाया।


NGT ने अपने फैसले में कहा है कि सभी राज्य व संघ शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव तत्काल प्रभाव से खतरनाक नाइलॉन व सिंथेटिक मांझे के निर्माण, बिक्री, भंडारण, खरीद और इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगाएं। पीठ ने कहा कि संबंधित राज्य सरकार, मुख्य सचिव, जिलाधिकारी इस फैसले को लागू कराने के लिए जिम्मेदार होंगे। अगर कोई फैसले का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

 

पीठ ने कहा कि चीनी मांझों की वजह से मनुष्यों के साथ-साथ पशु, पक्षियों के घायल होने की खबरें भी हमें आए दिन सुनने को मिलती हैं। इस तरह के हादसों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। लिहाजा ट्रिब्यूनल को इस मामले में हस्तक्षेप की जरूरत पड़ी। पीठ ने कहा कि प्राधिकरण किसी भी प्रकार के सिंथेटिक युक्त या नाइलॉन मांझों का आयात न करें। पीठ ने कहा कि पतंग उड़ाना एक खेल और मनोरंजन की गतिविधि भी है, लेकिन पतंग में इस्तेमाल नाइलॉन युक्त खतरनाक मांझे लुप्तप्राय पक्षियों के लिए भी खतरनाक साबित हो रहे हैं। इन मांझों से कटकर कई पक्षियों की मौत होती है। यह पर्यावरण की क्षति है।