घर-घर जाकर लीकेज को दुरुस्त करता है यह एनजीओ

इंद्रजीत सिंह, मुंबई (19 अप्रैल): कहीं पानी की बर्बादी हो रही है तो ऐसे भी लोग हैं जो पानी की बूंद-बूंद बचाने के लिए काम कर रहे हैं। न्यूज़ 24 पानी बचाने वाले जलदूतों से जुड़ी रिपोर्ट अब आपको दिखाने जा रहा है। मुंबई से सटे मीरा रोड में एक एनजीओ पानी की लीकेज रोकने के साथ ही लोगों को जल संरक्षण का संदेश भी दे रही है।

आप ये जान कर हैरान रह जाएंगे कि घरों के नलों अगर एक-एक बूंद पानी भी टपकता है तो 24 घंटे में पूरे 40 लीटर पानी बर्बाद हो जाता है। ये इतना पानी है कि कई लोगों की प्यास बुझा सकता है। लोगों को बूंद-बूंद पानी की कीमत समझाने की मुहिम में जलधार नाम की एक एनजीओ दिन-रात काम कर रही है। जलधारा के लोग घरों के नलों से पानी लीकेज को दुरुस्त करते हैं। जलधारा की हेल्पलाइन पर लोग अपनी शिकायत दर्ज करवाते हैं।

शिकायत मिलने के बाद जलधारा के जलदूत लीकेज दुरुस्त करने के लिए निकल पड़ते हैं। उस घर के दरवाज़े पर दस्तक देते हैं, जहां से शिकायत आई थी और फिर शुरू हो जाता है नल से पानी की लीकेज को ठीक करने का काम। यह लोग केवल नलों की लीकेज को ठीक नहीं करते, बल्कि घर के लोगों को भी लीकेज ठीक करने की ट्रेनिंग देते हैं। उन्हें बताते हैं कि कैसे नल को दुरुस्त कर लीकेज को रोका जा सकता है ताकी वो खुद ही दिक्कत को दूर कर सकें। ब तक जलधारा के जलदूत मीरा रोड इलाके में 12 सौ सोसायटी में लोगों को लीकेज ठीक करने की ट्रेनिंग दे चुके हैं।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=Mc0tdN65HQc[/embed]