#News24Manthan में बोले हरीश रावत- मैं कांग्रेस की बालिका बधू

देहरादून (20 फरवरी) : "जेएनयू का मौजूदा विवाद उसकी स्वायत्ता को खत्म करने की साजिश की तरह है। जेएनयू में वैकल्पिक  विचाराधारा के लोगों के प्रभाव के चलते आरएसएस और बीजेपी पूरे जेएनयू को ही बदनाम करने पर उतारु है।" ये कहना है उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत का। न्यूज 24 के खास कार्यक्रम 'मंथन' में शिरकत करते हुए हरीश रावत ने कहा, "जेएनयू में हमेशा से वामपंथी विचारधारा का प्रभुत्व रहा है। जेएनयू हमेशा से ही कांग्रेस के खिलाफ एक सेंटर रहा लेकिन कभी कांग्रेस ने उसकी स्वायत्ता पर सवाल नहीं उठाया लेकिन मौजूदा सरकार में ऐसा नहीं है।" रावत ने कहा कि जिन्होने भी देश के खिलाफ नारेबाजी की उन्हें जेल होनी चाहिए लेकिन ये तय करने का अधिकार कानून को है न कि बीजेपी और आरएसएस को। मुख्यमंत्री का कहना था कि जेएनयू की घटना को लेकर बीजेपी का मकसद सिर्फ देश को बांटना और हैदराबाद में दलित छात्र की आत्महत्या के मामले से ध्यान भटकाने का था।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=ccjB9u4-8do[/embed] हाल ही में सारे केंद्रीय विश्वविद्यालयो में अनिवार्य रुप से झंडा फहराने के आदेश को भी हरीश रावत ने बीजेपी की एक साजिश ही बताया। रावत ने कहा कि इस आदेश में भी साजिश की बू आती है। उनका कहना है कि राष्ट्रवाद सिर्फ झंडा फहराने से नहीं आता। इसमें भी बीजेपी जो इंडा नहीं फहराएगा उसको राष्ट्रवादी नहीं होने की बात करने लगेगी। हरीश रावत ने कहा कि झंडा हर आदमी के घर पर फैले तो बहुत खुशी की बात हैं। न्यूज 24 की एडिटर इन चीफ अनुराधा प्रसाद से खास बातचीत करते हुए हरीश रावत ने उत्तराखंड चुनावों में मोदी बनाम रावत के सवाल पर कहा कि मोदी महाबली हैं और मैं जनबली ..मोदी के पास 56 इंच का सीना है और मेरे पास 36 इंच का ..वो देश के महामहिम प्रधानमंत्री हैं और मैं छोटे राज्य का विकास का कार्यकर्ता। लेकिन साथ साथ हरीश रावत ने इतिहास याद कराते हुए कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार की पटकथा 2002 के उत्तराखंड चुनाव के नतीजों ने लिखे जब कांग्रेस उत्तराखंड में जीती और 2019 के लोकसभा चुनाव का रोडमैप भी 2017 के उत्तराखंड के चुनावी नतीजे तय करेंगे।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=iaEV9520Yz4[/embed]

डेढ घंटे के न्यूज 24 के खास कार्यक्म मंथन में उत्तराकंड के मुख्यमंत्री ने हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखी। कांग्रेस में गुटबाजी और पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के उनके सरकार के कामों की समीक्षा करने के मुद्दे पर हरीश रावत ने इशारों इशारों में ही व्यंग्यबाण चला दिया। मीठी बोली बोलने में माहिर हरीश रावत ने कहा कि अभी तो मैं अकेला दौड़ रहा हूं, बहुगुणा जी भी आ गए तो ताकत और बढेगी। वो भी सोनिया जी, राहुल जी और कांग्रेस का ही तो नाम लेंगे। अपने आप को कांग्रेस की बालिका बधू कहने वाले हरीश रावत ने आलाकमान से होने वाली शिकायतों को भी हल्के में लिया। मुख्यमंत्री का कहना है शिकायतों का मतलब है कि मैं कुछ काम रहा हूं। एक्शन होगा तभी रिएक्शन होगा और अंत में प्रदेश के विकास कार्यों में मोदी सरकार पर साथ नहीं देने का आरोप लगाया..हरीश रावत ने कहा कि मोदी सरकार एससी छात्रों की स्कालरशिप और हरिद्वार में होने वाले अर्द्धकुंभ में पैसा न देने का भी आरोप लगाया।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=T5_Pc61I5gk[/embed]