जश्न-ए-यंगिस्तान: अखाड़े में छोरों पर भारी वीनेश फोगाट को 27 नवंबर को सम्मानित करेगा 'न्यूज24'

नई दिल्ली (25 नवंबर): अखाड़े में छोरों पर भारी फोगाट बहनों की नई पहचान हैं वीनेश। चाचा महावीर फोगाट की देखरेख में अखाड़े में बचपन बीताने वाली वीनेश 2014 में सबकी नजर में आई जब उन्होने कामनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीता, इसके बाद वीनेश ने एशियाड में कास्य पदक भी हासिल किया।

पिछले साल रियो ओलंपिक में भी वीनेश का मेडल पक्का था लेकिन क्वार्टरफाइनल में लगी चोट ने उन्हे मेडल से दूर कर दिया लेकिन पूरे हिंदुस्तान की उम्मीदें अभी वीनेश से खत्म नहीं हुई हैं।

2020 के टोकयो ओलंपिक में वीनेश देश का परचम ज़रूर लहराएंगी। वीनेश फोगाट को जब्जे को सलाम करते हुए न्यूज़ 24 अपने खास कार्यक्रम जश्न-ए-यंगिस्तान में  27 नवंबर को सम्मानित करेगा।