#ManthanWithYogi: अगर कोई दंगा नहीं करेगा तो बहुसंख्यक समाज आपको कुछ नहीं कहेगा: सीएम योगी

लखनऊ(7 जुलाई): उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के 100 दिन होने पर न्यूज 24 खास कार्यक्रम 'मंथन' कर रहा है। कार्यक्रम के पहले सत्र में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ पहुंचे। इस मौके पर न्यूज 24 की एडिटर इन चीफ अनुराधा प्रसाद ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से सवाल जवाब किए। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के 100 दिन में किए काम गिनाए। इस दौरान उन्होंने हाल ही में सहारनपुर दंगे पर अपनी बात रखी। सहारनपुर को कुछ लोगों ने जातिय आधार पर भड़काया, मायावती जी के जाने पर ज्यादा हिंसा भड़की। सीएम योगी ने कहा कि अगर कोई दंगा नहीं करेगा तो बहुसंख्यक समाज आपको कुछ नहीं कहेगा।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने इस दौरान राज्य सरकार के कर्मचारियों को सख्त संदेश दिया। उन्होंने कहा कि जो काम नहीं कर सकता, वह हमारे साथ नहीं चल सकता। वहीं योगी ने अच्छा काम करने वाले अधिकारियों को सम्मानित करने की बात कही।  उन्होंने आगे कहा कि जो काम नहीं कर सकते या करना नहीं चाहते ऐसे लोगों की लिस्ट मांगी गई है। अगर कोई सरकारी कर्मचारी विकास कार्यों को आगे नहीं बढ़ाते तो उनको जबरदस्ती रिटायर किया जाएगा। सरकारी कर्मचारियों को हटाने के लिए सीआर नहीं बल्कि पब्लिक तय करेगी। जो 50 साल की उम्र के बाद काम नहीं कर सकता, सरकार उसे रिटायरमेंट दे सकती।

सीएम योगी ने कार्यक्रम में और क्या कहा...

- यूपी में इस बार 47 हजार भर्तियां होंगी। ये पुलिस और सब इंस्पेक्टर की होंगी

- 111 दिनों में यूपी में गौरक्षा के नाम पर कोई घटना नहीं हुई

 

- एनजीटी और सुप्रीम कोर्ट हमसे कुछ अपेक्षा रखती है, वह करना हमारी जिम्मेदारी है

- हमने किसी को बंद नहीं किया है, जो अवैध था वह बंद किया गया

- स्वस्थ्‍य जीवन के लिए शाकाहारी बनना चाहिए। शाकाहारी बनेंगे ज्यादा जिएंगे

- बजट का अभी खुलासा नहीं कर सकता, सभी यहीं बता दूंगा तो बजट के दिन आप सो जाएंगे

- बंगाल को वहां की सरकार की नकारात्मकता जला रही है

- लालू जी को इस समय कुछ ज्यादा सपने आ रहे हैं

- नीतीश कुमार ने कोविंद जी का समर्थन किया है, यह अच्छी उदाहरण है

- जो भारत के दुश्मन है, उनके लिए हिंदु-मुस्लिम एकता सहज नहीं

- अयोध्या जाने में कोई बुराई नहीं है। हर किसी को राम की कृपा का सौभाग्य नहीं मिलता

- अयोध्या में जाकर मैंने दोनों पक्षों से बात की है कि वह बातचीत करें, हम सहयोग करेंगे

-पिछली सरकार के भ्रष्‍टाचार से प्रदेश की सड़कों में हुए गड्ढों को भरा

- अयोध्या में पत्थर आ रहे हैं तो किसी को आपत्ति‍ नहीं होनी चाहिए

- अयोध्या में पत्थर आज से नहीं आ रहे हैं। पत्थर तो 1990 से आ रहे हैं

- यूपी में अंतरराष्‍ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट हो, जेवर का

- रामायण और भगवद् गीता के साथ ताज महल की तुलना नहीं हो सकती

- ताज महल को आप देश की संस्कृति से भी नहीं जोड़ सकते

- ताज महल एक अच्छी इमारत हो सकती है, लेकिन वह आस्था का प्रतिक नहीं हो सकता

- प्रदेश की सरकार बिना भेदभाव के किसानों के लिए काम कर रही है| किसानों की आय दोगुना करने की कोशिश

पार्टी जहां से कहेंगी मैं वहां से चुनाव लड़ूंगा, मैं गोरखपुर नहीं छोड़ना चाहता

- आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर सबसे ज्यादा मौतें हो रही हैं

- आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे में अखिलेश यादव के गांव के पास ही सबसे ज्यादा लूट होती है

- जिस प्रदेश में पानी, स्वास्थ्‍य और शिक्षा नहीं है। उस प्रदेश में एक परियोजनाओं पर लूट है

- बेवजह किसी के खिलाफ एफआईआर नहीं कराई जाएगी

- इस प्रदेश में 15 साल से कोई काम नहीं हुआ, निजी परिवार के लिए इसको गिरवी रख दिया था

- मैं यूपी का सीएम हूं, इसका रखवाला हो सकता हूं मालिक नहीं। मुझे अधिकार नहीं है

- हमने किसी को टारगेट नहीं किया है, लेकिन किसी ने गलत काम किया है तो उसे छोड़ा नहीं जाएगा

-  हम प्रदेश के विकास के लिए हर क्षण का प्रयोग करना चाहते हैं

 - इस बार प्रदेश पर 66 हजार करोड़ का भार पड़ा है, ऐसे में फिजूलखर्ची नहीं करनी चाहिए

- हम पैदल चलने वाले लोग हैं, तड़क-भड़क में कोई विश्वास नहीं रखते

- हर व्यक्ति को सुरक्षित रहने का अधिकार है

- हिंदू युवा वाहिनी के पास बहुत से काम हैं जो समाज की भलाई के लिए जरूरी है, वह करे

- जो भी कानून को अपने हाथ में नहीं लेगा, उसको कानून नहीं छेड़ेगा

- अगर कोई दंगा नहीं करेगा तो बहुसंख्यक समाज आपको कुछ नहीं कहेगा

- ये सरकार 22 करोड़ लोगों की है, सभी को जन कल्याण का लाभ पहुंचाया जाएगा

- हम हमेशा के लिए प्रदेश को अपराध मुक्त कर देंगे

- पिछली सरकार अपराधियों का संरक्षण करती थी

- सहारनपुर को कुछ लोगों ने जातिय आधार पर भड़काया, मायावती जी के जाने पर ज्यादा हिंसा भड़की

- यूपी में बदलाव हुआ है, प्रदेश में कोई भी दंगा नहीं हुआ है  

- यूपी में लोगों पर कोई टैक्स नहीं लगेगा, मंत्रियों और अधिकारियों की फिजूलखर्ची पर लगाम लगाई है

- हम प्रदेश से पैसा बचाएंगे और किसानों का कर्ज माफ करेंगे, किसी से नहीं

- हमने बैंक अधिकारियों को बताया कि जिन किसानों के कर्ज माफ हुए हैं, उनके यहां कोई नोटिस ना भेजें

- मैं कहीं भी जाता हूं तो किसी अधिकारी को अपने साथ नहीं ले जाता

- अधिकारियों को ज्यादा अच्छा काम करने के लिए ट्रांसफर किया जाता है

- दूसरी सरकारों के समय में भी कुछ अधिकारियों ने अच्छा काम भी किया

- जो पाप सपा और बसपा ने किया है, उन्हें क्षमा नहीं किया जाना चाहिए

- जो अधिकारी अच्छा काम करेंगे उनको सम्मानित करेंगे -

- जो काम नहीं कर सकते या करना नहीं चाहते ऐसे लोगों की लिस्ट मांगी गई है

- अगर कोई सरकारी कर्मचारी विकास कार्यों को आगे नहीं बढ़ाते तो उनको जबरदस्ती रिटायर किया जाएगा

- सरकारी कर्मचारियों को हटाने के लिए सीआर नहीं बल्कि पब्लिक तय करेगी

- जो 50 साल की उम्र के बाद काम नहीं कर सकता, सरकार उसे रिटायरमेंट दे सकती

- जो काम नहीं कर सकता, वह हमारे साथ नहीं चल सकता

- जहां 15 सालों से कोई काम नहीं हुआ है, वहां पर लगी जंग को छूटाने में समय लगेगा

- हर जिले में हर अधिकारी 9 बजे से 11 बजे तक जन-सुनवाई करता

- जब राजभर की शिकायतों पर हुई कार्रवाई के बारे में उनको बताया तो वो मान गए

- राजभर से पूछा कि क्या चाहते हैं, उनके मामले बहुत छोटे-छोटे थे

- 100 दिनों में यूपी सरकार ने 11 लाख से अधिक मामलों में सुनवाई की है, 10 लाख को निपटाया है

- प्रदेश की गंदगी को खत्म करने के लिए मेहनत तो करनी पड़ेगी

- सुबह उठकर ईश्वर से यह कामना करता हूं कि प्रदेश की जनता के हितों में काम कर सकें

- किसी ने एंटी रोमियो दल और भूमाफियाओं के खिलाफ काम नहीं किया

- पहले किसी ने अवैध बूचड़खानों में किसी ने लगाम लगाने का प्रयास नहीं किया, यह सिर्फ योगी ही कर सकता है

- सीएम बनने के बाद थोड़ी आजादी कम हो गई है, व्यस्तता बढ़ गई

- सीएम बनने के बाद योगी की जिंदगी में क्या बदलाव आया है

- पिछली सरकार के भ्रष्‍टाचार से प्रदेश की सड़कों में हुए गड्ढों को भरा

- पहले बिजली में भी भेदभाव होता था, लेकिन हमने उसको खत्म किया है

- बुंदेलखंड और आगरा में पहली बार गर्मी में पानी के लिए हाहाकार नहीं मचा

- प्रदेश की सरकार ने 37 लाख टन गेंहू किसानों से खरीदा है

-  प्रदेश की सरकार बिना भेदभाव के किसानों के लिए काम कर रही है

- सरकार के कामों को देखकर हम पता लगा सकते हैं कि हम किस दिशा में जा रहे हैं

- 100 दिन में हम सरकार के काम का आंकलन नहीं कर सकते