अब एक बार चार्ज करने पर 90 दिन चलेगी मोबाइल की बैटरी

नई दिल्ली (26 जून): जब से लोगों के हाथों में स्मार्टफोन आए हैं, तभी से उनकी सबसे बड़ी दिक्कत यह होती है कि इनकी बैटरी जल्द ही खत्म हो जाती है। ऐसे में लोगों को कभी-कभी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लेकिन अब वैज्ञानिकों को ऐसी तकनीक खोजने में सफलता हासिल हुई है, जिससे हर तीन महीने में सिर्फ एक बार फोन चार्ज करना होगा।


वैज्ञानिकों ने एक नया मटीरियल तैयार किया है, जो प्रोसेसर को 100 गुना कम ऊर्जा का उपयोग करने की अनुमति देता है। मिशिगन और कॉर्नेल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का खोजा यह मैग्नेटोइलेक्ट्रिक मल्टीफेरिक मटीरियल परमाणुओं की पतली परतों का निर्माण करता है जो चुंबकीय ध्रुवीय फिल्म बनाते हैं। इस सिद्धांत का उपयोग बाइनरी कोड 1 और 0 को भेजने के लिए किया जा सकता है, जिस पर हमारे कंप्यूटर काम करते हैं। आसान भाषा में वे बिजली के केवल एक छोटे से हिस्से का उपयोग करके डेटा रिसीव और सेंड कर सकते हैं।


मौजूदा प्रोसेसर सेमीकंडक्टर बेस्ड सिस्टम के उपयोग से बनाए जाते हैं, जिन्हें लगातार करंट फ्लो की जरूरत होती है। मैग्नेटोइलेक्ट्रिक मल्टीफेरिक्स सिस्टम का उपयोग कर बनाए जाने वाले प्रोसेसर को बिजली के कम पल्स की जरूरत होगी, जिससे कम ऊर्जा का उपयोग लंबे समय तक किया जा सकेगा।