कमजोर बच्चों के लिए केजरीवाल सरकार ने शुरू की नई योजना

नई दिल्ली (30 जून): पढ़ाई में कमजोर बच्चों के लिए केजरीवाल सरकार ने एक नई योजना की शुरुआत की है। चुनौती 2018 नाम की इस योजना में पढ़ाई में कमजोर छात्रों को खास टीचरों का समूह पढ़ाएगा।

स्कूल छोड़ने वाले बच्चों और कमजोर छात्रों की मदद के लिए दिल्ली सरकार ने शिक्षा की एक नई स्कीम का ऐलान किया है। इस स्कीम का नाम 'चुनौती 2018' रखा गया है। इसमें पढ़ाई में कमजोर रहने वाले छात्रों की पहचान की जाएगी और फिर उन पर खास ध्यान दिया जाएगा ताकि वो पढ़ने में तेज हो। क्लास 6- 9 वीं क्लास तक के बच्चों के लिए योजना चलेगी। दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री सिसोदिया ने कहा है कि इस योजना के लिए बेस्ट टीचर काम करेंगे।

दिल्ली सरकार ने केंद्र की नो डिटेंशन पॉलिसी पर भी निशाना साधा। मनीष सिसोदिया ने कहा कि नो डिटेंशन पॉलिसी की वजह से 9वीं क्लास में पास होने की दर लगातार घटी है। इसलिए चुनौती 2018 से समाधान निकलेगा।

आज के माहौल में जब छात्रों पर स्कूल से लेकर माता-पिता तक प्रेशर होता है। ऐसे में यकीनन पढ़ाई में कमजोर छात्रों पर अगर स्कूली टीचर खासतौर पर ध्यान देंगे तो नतीजे अच्छे आने की उम्मीद है।