चीन की इस मिसाइल से नहीं बचेगा दुनिया का कोई देश

नई दिल्ली ( 20 नवंबर ): चीन अपनी सेना में जल्द ही लंबी दूरी का एक ऐसा अंतरमहाद्वीपीय बलिस्टिक मिसाइल शामिल करने वाला है जो दुनिया के किसी भी कोने में निशाना साध सकता है। चीन 2018 में अगली पीढ़ी की लंबी दूरी तक मार करने वाली अत्याधुनिक मिसाइल को अपनी सेना में शामिल करेगा। 

एक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि यह मिसाइल परमाणु हथियारों को एकसाथ ले जाने में सक्षम होगा। डोंगफेंग-41 नामक यह मिसाइल दुश्मनों के मिसाइल खतरे और डिफेंस सिस्टम को भी मात देने में सक्षम है। इस मिसाइल की गति मैक 10 (ध्वनि की गति से 10 गुना तेज, करीब 12,900 किलोमीटर प्रति घंटे) से भी ज्यादा तेज है। 

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि साल 2012 में इस मिसाइल की घोषणा होने के बाद से अब तक इसका आठ बार परीक्षण हो चुका है और यह पीपल्स लिबरेशन आर्मी में 2018 में शामिल हो जाएगा। 

ग्लोबल टाइम्स ने गुआंगु को यह कहते हुए उद्धृत किया कि डोंगफेंग-41 तीन स्तरीय ठोस ईंधन मिसाइल है और इसमें कम से कम 12,000 किलोमीटर की मारक क्षमता है। इसका मतलब यह हुआ कि यह चीन से दुनिया के किसी भी कोने में निशाना साधा जा सकता है। 

रूसी विशेषज्ञों के अनुसार अमेरिका को ध्यान में रखकर यह मिसाइल तैयार किया गया है। इस मिसाइल से अमेरिका और यूरोप के सभी हिस्सों को अपने निशाने पर लिया जा सकता है।