नोटबंदी के बाद इनकम टैक्स कानून में बदलाव के आसार, कैश डिपॉजिट पर देना होगा जवाब

नई दिल्ली (24 नवंबर): 500 और 1000 के पुराने नोटों पर पाबंदी के बाद अब सरकार कालेधन पर लगाम लगाने के लिए इनकम टैक्स के कानून में बदलाव करने जा रही है। दरअसल नोटबंदी के बाद बैंकों और डाकघरों में जमा किए जा रहे कैश पर आयकर विभाग की पैनी नजर है। अब तक जिस नकदी का कहीं हिसाब-किताब नहीं था, ऐसी राशि को लेकर सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने कुछ आयकर नियमों में बदलाव किए हैं।

इनकम टैक्स, 1962 के नियम 114ई के तहत अब तक बड़े लेन-देन की जानकारी सरकार को देना अनिवार्य था। अब इसमें बदलाव किया जा रहा है। नए प्रावधानों के तहत, 9 नवंबर से 30 दिसंबर 2016 के बीच निर्धारित सीमा से ज्यादा कैश खाते में जमा किया गया तो भी जवाब देना पड़ेगा।