दक्षिण दिल्ली में हुए ट्रिपल मर्डर का खुलासा, गर्लफ्रेंड के साथ युवक गिरफ्तार

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 जून):  महज़ 10 सेकेंड के लिए चालू हुए मृतक विष्णु माथुर के मोबाइल फ़ोन ने वसंत विहार इलाके में हुए तिहरे हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाया। वसंत विहार इलाके में हुए बुजुर्ग दम्पति और उनकी केयरटेकर की हत्या की जांच कर रही क्राइम ब्रांच को पहला सुराग तब हाथ लगा जब 24 जून को यानी हत्या के दूसरे रोज घटना स्थल से गायब बुजुर्ग का मोबाइल फोन 10 सेकंड के लिए अचानक चालू हो जाता है। जिसकी लोकेशन गुड़गांव की आ रही थी। 

दरअसल प्रिति और मनोज कत्ल की वारदात को अंजाम देने के बाद तीनों का मोबाइल अपने साथ ले गए थे। क्राइम ब्रांच सूत्रों की माने तो जब मृतक की बेटी से बात हुई तो उसने बताया कि 17 जून उनके पिता और माँ के घर पर प्रिति आई थी। जिसके बाद पुलिस ने जब प्रिति का मोबाइल फ़ोन के लोकेशन को ट्रेस किया तो पता चला कि जो लोकेशन बुजुर्ग के फोन की आई थी उसी जगह की लोकेशन प्रिति के मोबाइल की भी आई। जिसके बाद पुलिस को पता चला कि प्रिटी ने oyo के ज़रिए होटल बुक किया है जिसके बाद पुलिस आरोपीयो तक पहुची। पूछताछ में पता चला कि बुज़ुर्ग का फ़ोन गलती से उनसे चालू हुआ था।

पूछताछ में आरोपी मनोज ने बताया कि बुज़ुर्ग दम्पति और उनकी केयरटेकर की हत्या से पहले उसने नशे की गोलियां खाई थी जिससे हत्या  जिस मकसद से वो यंहा पहुँचा था उसका इरादा न बदल सके। इतना ही नही बताया जा रहा है कि आरोपी ने इससे पहले भी कत्ल की एक वारदात को अंजाम दिया है। सूत्रों के मुताबिक साल 2010 में इसने अपनी पत्नी जो कि पेशे से पत्रकार थी उसका कत्ल किया था जिसके बाद वो 2010 से 2015 तक जेल में था साल 2016 में गुड़गांव में एक पार्टी में इसकी मुलाकात कॉमन दोस्त के ज़रिए प्रिती से हुई।

बता दें कि शनिवार रात वसंत विहार थानाक्षेत्र स्थित वसंत अपार्टमेंट में रहने वाले विष्णु माथुर (80), पत्नी शशि माथुर (75) व उनकी नर्सिंग सहायिका 24 वर्षीय खुशबू की हत्या कर दी गई थी। दंपती का शव कमरे में बेड पर पड़ा मिला था, जबकि नर्सिंग सहायिका खुशबू का शव ड्राइंग रूप में पड़ा मिला था।