निर्भया कांड: दो दोषियों की पुनर्विचार याचिका पर SC में फैसला सुरक्षित

नई दिल्ली (04 मई): निर्भया केस में फांसी की सजा पाए दोषी विनय शर्मा और पवन गुप्ता के वकील ने सुप्रीम कोर्ट से दोनों की सजा कम से कम करने की गुहार लगाई है।

वहीं, सुनवाई के दौरान दोनों दोषियों की फांसी की सजा के ख़िलाफ़ दाखिल पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने बहस सुनकर फैसला सुरक्षित रख लिया है। इस मामले में कोर्ट ने रिब्यू पिटिशन दाखिल करने के लिए चारों दोषियों को तीन सप्ताह का समय दिया है।

आपको बता दें कि पिछले साल मई महीने में ही (5 मई) को दिल्ली हाईकोर्ट से फांसी की सजा पाए दिल्ली दुष्कर्म कांड के दोषियों की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत और दिल्ली हाईकोर्ट ने चार दोषियों मुकेश, पवन, अक्षय और विनय को फांसी की सजा बरकरार रखा था। 

2012 में 16-17 दिसंबर की दरम्यानी रात को साउथ दिल्ली में एक पारामेडिकल स्टूडेंट के साथ 6 दरिंदों के एक गैंग ने चलती बस में हैवानियत की थी और उसे सड़क पर नंगा फेंकने से पहले बुरी तरह जख्मी किया था। 29 दिसंबर 2012 को आखिरकार पीड़ित ने सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया। इस केस के एक अन्य दोषी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी जबकि नाबालिग दोषी बालसुधार गृह में 3 साल गुजारने के बाद अब आजाद है।