नेपालः फिर से आंदोलन की राह पर मधेसी पार्टी

नई दिल्ली (12 जून): नेपाल में मुख्य मधेसी पार्टी ने नए संविधान में संशोधन के मुद्दे पर फिर से आंदोलन की घोषणा कीहै। मधेसी प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री देऊबा सरकार के साथ किसी आम राय तक पहुंच पाने में नाकाम रहने के बाद स्थानीय चुनावों के दूसरे दौर में नए सिरे से प्रदर्शन की घोषणा की जा रही है। नेपाल के सत्तारूढ़ गठबंधन और राष्ट्रीय जनता पार्टी- नेपाल (आरजेपी-एन) के प्रतिनिधियों के बीच सिंह दरबार सचिवालय में एक बैठक हुई है। इसका उद्देश्य स्थानीय स्तर के चुनावों के दूसरे दौर के लिए सभी असंतुष्ट पार्टियों को एक मंच पर लाना है। बैठक के दौरान सरकार ने आवश्यक नियम कानून में फौरन संशोधन करने का वादा किया। हालांकि, पार्टी ने 28 जून को होने वाले चुनाव में भाग लेने से इनकार करते हुए कहा कि सत्तारूढ़ पार्टियों ने उनकी मुख्य मांगें पूरी नहीं की हैं।


बैठक के बाद नेपाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राम चंद्र पौडियाल ने कहा कि आरजेपी-एन को चुनाव के लिए सहमत करने को लेकर एक सौहार्दपूर्ण माहौल बनाने को लेकर कुछ कानूनों में संशोधन पर एक सहमति बनी है। आरजेपी-एन के नेता अनिल झा ने बताया कि वे लोग चुनाव में तब तक भाग नहीं लेंगे जब तक कि संविधान संशोधन नहीं हो जाता। पार्टी ने चुनाव में खलल डालने के इरादे से सोमवार से नए सिरे से आंदोलन करने की भी घोषणा की। बैठक में नेपाली कांग्रेस प्रमुख देऊबा, उप प्रधानमंत्री बिजय कुमार गच्छादर और कृष्ण बहादुर महारा भी शरीक हुए।