'संघीय गठबंधन के प्रदर्शन को हलके में न नेपाल सरकार'

नई दिल्ली (23 मई): नेपाल की राजधानी काठमाण्डु में चल रहे संघीय गठबंधन के विरोध प्रदर्शन पर लोगों का मानना है कि इससे पहाड़ी और मधेसियों के बीच की दूरियां कम होंगी। 'काठमाण्डु पोस्ट' ने सरलाही के राजनीतिक विश्लेषक रजनीकांता झा के हवाले से लिखा है कि सरकार संघीय गठबंधन को कमजोर करने की कोशिशों के बजाये उन पार्टियों से वार्ता शुरु करे जो काठमाण्डु प्रदर्शन में शामिल नहीं हैं। उन्होंने सरकार को यह भी सलाह दी है कि वो संघीय गठबंधन के प्रदर्शन को हलके में लेने की कोशिश न करे।

जनकपुर के विख्यात लेखक के हवाले से अखबार लिखता है कि सरकार और प्रदर्शनकारियों को देश हित में लचीला रुख अपनाना चाहिए। इसके विपरीत बीरगंज के बिनोद गुप्ता का कहना है कि प्रदर्शन का समय उचित नहीं है। यह समय प्लांटेशन का है। अधिकांश लोग व्यस्त होते हैं और प्रदर्शन चलाये रखने के लिए मधेस इलाके से लोगों को लाये बिना संघर्ष जारी रखना मुश्किल होगा। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार फिल्हाल मजबूत स्थिति में है क्यों कि तखता पलट के प्रयास को प्रधानमंत्री ने बखूबी नाकाम कर दिया था।