नेपाल ने टाल दिया चीन के साथ सैन्य अभ्यास

नई दिल्ली (2 मार्च): भारत और नेपाल की सेनाओं के बीच बटालियन स्तर पर संयुक्त अभ्यास मार्च में होगा। मार्च में ही नेपाल और चीन के बीच पहला सैन्य अभ्यास होने के आसार बताए जा रहे थे, लेकिन भारत के अभ्यास की तारीख तय होने से चीन के लिए मुश्किल हो गई है।संयुक्त सैन्य अभ्यास का प्रस्ताव नेपाल के सामने चीन ने ही रखा था, क्योंकि वह इससे भारत और अमेरिका को संदेश देना चाहता था। चीन-नेपाल सैन्य अभ्यास का प्लान पहले फरवरी में किया गया था। बहरहाल, भारत में इससे उठी चिंताओं के कारण नेपाल की ओर से तारीखों की घोषणा नहीं की जा रही थी। तारीख पर बात करने नेपाल से एक टीम चीन जा चुकी है। नेपाल के राजनीतिक नेतृत्व ने भी भारत को कुछ मौकों पर आपसी संबंधों का भरोसा दिलाते हुए चिंता न करने की बात कही थी।

इस बीच भारत और नेपाल के बीच मार्च में 'सूर्य किरण' का नाम के सैन्य अभ्यास की तारीख की घोषणा बुधवार को कर दी गई। सूर्य किरण हर साल आयोजित किया जाता है। एक साल भारत तो दूसरे साल नेपाल में। खास बात यह है कि पिछले साल 31 अक्टूबर से 13 नवंबर के बीच ही 10 वीं बार अभ्यास हुआ था। अगला अभ्यास मार्च में ही होने को दिलचस्पी से देखा जा रहा है। पिथौरागढ़ में 7 से 20 मार्च तक होने वाले इस अभ्यास का मकसद आतंकवाद के खिलाफ मुहिम का अभ्यास बताया गया है।