तिब्बत-काठमांडू रेल लाइन समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे नेपाल और चीन

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 18 जून ): नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अपने 5 दिवसीय चीन के दौरे पर जाएंगे। इस दौरान दोनों देशों के बीच कई करार होने की संभावना है। कहा जा रहा है कि ओली अपनी चीन यात्रा के दौरान कई द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे जिनमें ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग और तिब्बत में केरुंग को नेपाल की राजधानी काठमांडू से जोड़ने के लिए रेल लाइन के निर्माण से जुड़े समझौते शामिल हैं। दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद यह ओली की पहली चीन यात्रा है।ओली 19 से 24 जून तक चीन में रहेंगे। इस यात्रा के दौरान बेल्ट ऐंड रोड पहल के तहत कई प्रॉजेक्ट्स और पेइचिंग की भारत-नेपाल-चीन आर्थिक गलियारे की योजना पर भी चर्चा होने की संभावना है।नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) की स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य गणेश शाह ने बताया कि इस दौरान ओली वहां करीब आधा दर्जन द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे। केरयूंग-काठमांडू रेल लाइन के अगले चार साल में पूरा हो जाने की संभावना है और 6 चीनी कंपनियों का नेपाल की 6 निजी कंपनियों के बीच भी किया जाएगा। ओली चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग के बुलावे पर वहां जा रहे हैं।बता दें कि ओली 2016 में प्रधानमंत्री के तौर पर अपने छोटे से कार्यकाल से ही चीन-नेपाल रिश्तों को बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं। उन्होंने उस दौरान मधेशी आंदोलन के बढ़ते प्रभाव के दौरान भारत पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए चीन के साथ ट्रांजिट व्यापार संधि भी की थी। साथ ही हिमालय में तिब्बत के जरिए चीन के रेल नेटवर्क और सड़क मार्ग तक अपनी पहुंच भी बनाने की ख्वाहिश जताई थी।हालांकि दोबारा निर्वाचन के बाद ओली अपनी पहली विदेश यात्रा पर भारत ही आए थे। तब उन्होंने चीन-भारत के बीच नेपाली नीति को संतुलित बनाए रखने का वादा किया था। ओली के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वहां की यात्रा करने से भी दोनों देशों के रिश्तों में मजबूती आई है। इस दौरान दोनों देशों के बीच रेल लाइन निर्माण और जल विद्युत के क्षेत्र में सहयोग पर भी सहमति बनी है।