नीम का कड़वा रस पिलाकर दी जाती है छात्रों को सजा

वैशाली पटेल, सूरत (28 अगस्त): स्कूल में शैतानी करने पर या होमवर्क न पूरा कर पाने पर छात्रों को सजा के तौर पर नीम का कड़वा जूस पिलाया जाता है। सूरत के अदाजन इलाके में स्थित विद्या कुंज स्कूल में प्राइमरी और सेकंडरी लेवल तक के बच्चों के लिए सजा की यह अनोखी तरकीब अपनाई जाती है।

स्कूल के प्रिंसिपल महेश पटेल ने कहा कि नीम का जूस कड़वा भले होता है, लेकिन इसके फायदे अनेक हैं। इससे बच्चों का स्वास्थ्य तो ठीक ही रहेगा वो शैतानी भी कम करेंगे। जिन बच्चों को यह जूस पिलाया जाता है वो दोबारा गलती नहीं करते। हम पिछले 20 दिनों से नीम का जूस पिला रहे हैं। यह सिर्फ प्राइमरी और सेकंडरी तक के बच्चों के लिए है। नीम की कड़वाहट को कम करने के लिए उसमें थोड़ा सा पानी भी मिला दिया जाता है।

अपने इस तरीके पर बेहद खुश लग रहे महेश पटेल ने बताया कि बच्चे अब चुपचाप अपनी गलती मानकर कड़वा जूस पीने के लिए तैयार हो जाते हैं। जिनको जूस नहीं पीना होता वे स्कूल में गलती करने से घबराते हैं। नीम का जूस सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसमें रोग प्रतिरोध की विशेषताएं हैं। यह ऐंटी वायरल भी होता है जिससे कैंसर समेत कई सारी गंभीर बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है। मैं तो नियमित तौर पर नीम जूस का सेवन करता हूं। मैं चाहता हूं कि मेरे स्कूल के बच्चे भी नीम के जूस का सेवन करें। गलती करने से बचें और स्वस्थ रहें।