Blog single photo

ड्रग तस्करों की अब खैर नहीं, एनसीबी बनाएगी 100 ड्रग माफिया की सूची

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पहली बार भारत में 100 शीर्ष ड्रग माफिया की एक सूची तैयार करने की प्रक्रिया में है और आने वाले दिनों में नार्कोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक पदार्थों की रोकथाम के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगा।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (17 अक्टूबर):  नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पहली बार भारत में 100 शीर्ष ड्रग माफिया की एक सूची तैयार करने की प्रक्रिया में है और आने वाले दिनों में नार्कोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक पदार्थों की रोकथाम के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगा। इस मुहिम का मेन टारगेट मुंबई होगा, क्योंकि पिछले कुछ समय से  मुंबई में ड्रग्स की सप्लाई बड़ी है। खास कर के फिल्म सीटी औऱ पुणे में ड्रग्स के खप्त में लगातार इजाफा हो रहा है। 

गृह मंत्रालय और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के अधिकारियों के अनुसार, एनसीबी के सभी 14 जोनल निदेशकों से कहा गया है कि वे भारत में ड्रग सप्लायर की पहचान करें, ताकि वितरण पर रोक लगाया जा सके। पिछले एक दशक में PITNDPS मामलों के डेटाबेस के साथ, जोनल निदेशक पहले से ही ड्रग पुशर्स और पेडलर्स तक सीमित होने के बजाय मंत्रालय और NCB को शीर्ष ड्रग माफिया के आंकड़े भेज रहे हैं। इस किंगपिन सूची के आधार पर  गिरफ्तारी भी की जाएगी।

भारत सरकार ने यह फैसला ड्रग के सप्लाई को रोकने के लिए किया है। पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के माध्यम से हेरोइन की तस्करी में उल्लेखनीय वृद्धि के बाद यह फैसला लिया गया है। अगस्त 2018 से, एलओसी के माध्यम से लगभग 180 किलोग्राम हेरोइन की बरामदगी हुई है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में एक किलोग्राम हेरोइन की कीमत 2.5-3 करोड़ रुपये के बीच है, जबकि भारत में लागत लगभग 30-50 लाख रुपये प्रति किलोग्राम है। एक झटके के रूप में जो आया वह यह है कि भारत में हर दिन लगभग एक टन हेरोइन की खपत होती है, जिसकी कीमत 100 करोड़ रुपये से अधिक है।

जबकि अफगानिस्तान और पाकिस्तान पश्चिमी सीमाओं और समुद्र के माध्यम से भारत के मुख्य आपूर्तिकर्ता बने हुए हैं, म्यांमार-पूर्वोत्तर अक्ष हेरोइन और रासायनिक दवाओं का एक अन्य प्रमुख स्रोत है, जैसे याबा (कई उत्तेजक पदार्थों का एक संयोजन), मेथामफेटाइसीन और केटामाइन। इजरायल, रूसी, इतालवी और नाइजीरियाई माफिया द्वारा भारत में व्यापार को अनिवार्य रूप से नियंत्रित किया जाता है।

Tags :

NEXT STORY
Top