देश के लिए नासूर बने नक्सली, दो दशकों में 12 हजार लोगों को मार डाला

नई दिल्ली (9 जुलाई): पिछले दो दशक नक्सली समस्या देश की आतंरिक सुरक्षा व्यवस्था के लिए नासूर बनते जा रहा है। अपने मूल मकसद से भटक चुके नक्सली देश खून खराबा करने पर आमादा है। इसका का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले दो दशकों में नक्सली 12,000 से ज्यादा लोगों की हत्या कर चुका है। इनमें 2700 सुरक्षाकर्मी शामिल हैं। गृहमंत्रालय की ओर से जारी ताजा आंकड़े के मुताबिक इनमें 9,300 ऐसे लोग थे जिन्हें नक्सलियों ने पुलिस का मुखबिर बता कर मार डाला या फिर ये क्रॉसफायरिंग में मारे गए।

हालांकि, मई 2014 से अप्रैल 2017 के बीच नक्सलियों की हिंसा में 25 प्रतिशत की कमी आई है। जबकि सुरक्षा बलों को होने वाले नुकसान में भी 42 प्रतिशत की कमी देखी गई है। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि मौजूदा समय में 90 प्रतिशत नक्सली 35 जिलों में सक्रिय हैं। हालाकि, 10 राज्यों के 68 जिले में उनका प्रभाव है।