भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद कुर्सी नहीं छोड़ेंगे नवाज़ शरीफ

नई दिल्ली (14 जुलाई): पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उनके इस्तीफे की मांग के बीच कैबिनेट एक आपातकालीन बैठक के बाद साफ कर दिया कि वह किसी के दबाव में आकर इस्तीफा नहीं देंगे। शरीफ ने पनामागेट मामले के लिए गठित जेआईटी की रिपोर्ट से खुद और परिवार के बचाव की रणनीति तैयार करने के मकसद से यह बैठक बुलाई थी। ज्वाइंट इन्वेस्टिगेशन टीम ने रिपोर्ट में शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने की सिफारिश की है।


 पाकिस्तानी अखबार 'द डॉन' की वेबसाइट के मुताबिक 67 वर्षीय शरीफ ने बैठक के दौरान सुप्रीम कोर्ट में जेआईटी  की रिपोर्ट को चुनौती देने संबंधी पार्टी की रणनीति के बारे में सदस्यों को जानकारी दी और कैबिनेट का समर्थन हासिल किया। 6 सदस्यों वाली जेआईटी ने शरीफ परिवार के व्यापारिक लेनदेन की जांच संबंधी अपनी 10 खंडों वाली रिपोर्ट 10 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट को सौंपी थी।