ट्रंप ने उतारी शरीफ की शराफत, बोलने तक नहीं दिया

रियाद (23 मई): सऊदी अरब में इस्लामिक समिट के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंन्‍ी नवाज शरीफ को अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने आइना दिखाया। इस समिट में नवाज शरीफ को बोलने तक नहीं दिया गया और वह चुपचाप ट्रंप की स्पीच सुनते रहे। इसी के साथ ट्रंप ने एक बार भी अपनी स्पीच में नवाज शरीफ या पाकिस्तान का जिक्र नहीं किया। ट्रंप ने नवाज के सामने ही भारत को आतंकवाद प्रभावित मुल्क कहा। इस बैठक में ट्रंप ने मुस्लिम देशों के नेताओं से अपील की थी कि वे मिलकर आतंकवाद का मुकाबला करें।

द नेशन में भी छपे आर्टिकल में नवाज शरीफ की इस बेइज्जती का जिक्र किया गया है। इसमें लिखा है, 'कुछ बहुत ही गलत हुआ है। सऊदी अरब में आयोजित अरब-इस्लामिक-अमेरिकन समिट में हिस्सा लेने पीएम नवाज शरीफ की अगुआई में पहुंचे प्रतिनिधिमंडल के साथ हुई घटना के बारे में ऐसा ही कहा जा सकता है। अधिकतर पाकिस्तानी मीडिया प्रतिनिधियों के बीच यही आम राय थी कि इकलौते न्यूक्लियर पावर वाले इस्लामिक राष्ट्र की पूरी बेइज्जती हुई है। यहां ग्लोबल टेररिजम के खिलाफ पाकिस्तान की भूमिका का न तो कोई जिक्र किया गया, बल्कि पीएम नवाज शरीफ को अपनी राय जाहिर करने का मौका भी नहीं दिया गया।'

द नेशन के इस आर्टिकल में इस बात का भी जिक्र है कि किस तरह ट्रंप ने आतंकवाद के पीड़ित के तौर पर भारत, रूस, चीन और ऑस्ट्रेलिया का नाम तो लिया, लेकिन 70 हजार आम लोगों को गंवाने वाले पाकिस्तान का एक बार भी जिक्र नहीं लिया। आर्टिकल के मुताबिक, आतंकवाद के पीड़ित के तौर पर भारत का जिक्र ऐसे वक्त में पाक के लिए बेहद चुभने वाला है, जब वह कुलभूषण जाधव के केस के जरिए दुनिया के सामने यह साबित करना चाहता है कि उसके यहां आतंकवाद को बढ़ावा देने में भारत का हाथ है।