भारत के पास ऐसी तकनीक, नवाज की पार्किंग में खड़ी गाड़ि‍यां भी गिन सकते हैं

नई दिल्ली (3 अक्टूबर): सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान भारत के उपग्रहों ने जवानों को खूब मदद की। हमारे पास ऐसी तकनीक मौजूद है, जो पाकिस्तान तो दूर चीन के पास भी नहीं है। इसकी मदद से भारत नवाज शरीफ की पार्किंग में खड़ी कारों को भी गिन सकता है।

इसरो ने की जिस तकनीक की बात हम कर रहे है, अगर उसका इस्तेमाल सेना आने वाले दिनों में पूरी तरह से करे तो हाफिज सईद और मसूद अजहर जैसे आतंकियों को उनके बिलों में छुपकर रहना पड़ेगा। वहीं भारत इस क्षेत्र में अपनी क्षमता को बढ़ाने के लिए C4ISR को विकसित कर रहा है।

C4ISR यानी कमांड, कंट्रोल, कम्युनिकेशन्स, कम्प्यूटर, इंटेलिजेंस, सर्विलांस और रिकॉनिसन्स। भारत पहले ही एक एयरोस्पेस कमांड बना चुका है और 'सर्जिकल स्ट्राइक्स' को समझने वाले विशेषज्ञ मानते हैं कि इसके जरिए आधी रात को हमले करने की तैयारी और उसे अंजाम देने के लिए यह कमांड महत्वपूर्ण है।

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइशन यानी इसरो युद्ध नहीं लड़ती और पूरी तरह से एक सिविलियन एजेंसी हैं, लेकिन इसने देश को जो क्षमताएं दी हैं, वो दुनिया में श्रेष्ठ हैं। इसरो न केवल पाकिस्तान में मौजूद आतंकियों और उनके ठिकानों को गिद्ध दृष्टि से देखती ह, बल्कि इन ठिकानों को नष्ट करने के लिए सेना को नेविगेशन सिग्नल भी उपलब्ध कराती है।