जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण


नई दिल्ली(25 मार्च): नौसेना ने पहली बार सतह से हवा में मार करने वाली बराक मिसाइल प्रणाली का सफल परीक्षण किया है। इसे हाल ही में नौसेना में शामिल किया गया है। अरब सागर में आइएनएस विक्रमादित्य से इसका परीक्षण किया गया।


नौसेना के एक अधिकारी ने शुक्रवार को यहां बताया कि समुद्र में कम ऊंचाई पर अत्यंत तीव्र गति से जा रहे लक्ष्य पर इसे दागा गया, जिसे इसने नष्ट कर दिया। अधिकारी ने कहा कि 21 से 23 मार्च के बीच पश्चिमी बेड़े के फ्लैग आफिसर कमांडिंग इन चीफ वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा की निगरानी में इसका परीक्षण किया गया।


बराक मिसाइल से नौसेना को लैस किए जाने को देश की हवाई सुरक्षा और रक्षा क्षमताओं में वृद्धि के लिहाज से मील का पत्थर माना जाता है। इस बीच, रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को डीआरडीओ द्वारा विकसित तीन नौसेना प्रणाली नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा को सौंपी।


इनमें यूएसएचयूएस-2 पनडुब्बी सोनार, सोनार प्रणाली के लिए निर्देशन उपकरण और जहाज में इस्तेमाल के लिए नेविगेशन सिस्टम शामिल हैं। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि स्वदेशी रक्षा उपकरणों के जरिये डीआरडीओ लगातार देश की रक्षा क्षमता बढ़ाने में लगा रहा है।