विशिष्ट योग के साथ शुरु हो रहे नवरात्र का का पारायण भी सर्वार्थ सिद्धि योग में


नई दिल्ली ( 21 सितंबर ):  आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तिथि तक शारदीय नवरात्र का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये उत्सव आज से शुरु होकर  29 सितंबर तक मनाया जाएगा। इस बार विशेषता यह है कि इस बार नवरात्र का पर्व महासंयोग लेकर आ रहा है।

नव रात्र और योग 

- 21 सितंबर, गुरुवार को शारदीय नवरात्र का पहला दिन होगा। इस दिन घट स्थापना के बाद ही नवरात्र का पर्व प्रारंभ होगा। सूर्य व चंद्रमा की स्थिति से ब्रह्मा योग शुभ फल देने वाला रहेगा।
- 22 सितंबर, शुक्रवार को नवरात्र का दूसरा दिन रहेगा। इस दिन सूर्य-चंद्रमा के नक्षत्रों की गणना करने पर रवि योग बन रहा है।
- 23 सितंबर, शनिवार को नवरात्र का तीसरा दिन रहेगा। इस दिन रवि योग के साथ ही सर्वार्थसिद्धि योग भी बन रहा है।
- 24 सितंबर, रविवार को नवरात्र का चौथा दिन रहेगा। इस दिन भी रवि योग का संयोग बन रहा है।
- 25 सितंबर, सोमवार को नवरात्र का पांचवा दिन रहेगा। इस दिन सर्वार्थसिद्ध योग के साथ ही रवि योग भी रहेगा।
- 26 सितंबर को नवरात्र का छठा दिन रहेगा। इस दिन भी नक्षत्रों के कारण रवि योग का संयोग बन रहा है।
- 27 सितंबर को नवरात्र का सातवा दिन रहेगा। इस दिन सूर्य-चंद्रमा की स्थिति से सौभाग्य योग बन रहा है।
- 28 सितंबर को नवरात्र का आठवा दिन रहेगा। इस दिन कन्या राशि का सूर्य व धनु राशि का चंद्रमा शोभन योग बना रहा है।
- 29 सितंबर को नवरात्र का अंतिम यानी नौवा दिन रहेगा। इस दिन नक्षत्रों के योग से प्रवर्ध व आनंद नाम के शुभ योग बन रहे हैं।
- 30 सितंबर को जवारे विसर्जन किए जाएंगे व दशहरा मनाया जाएगा। इस दिन सर्वार्थसिद्धि व रवि योग बन रहा है।