नवरात्र में इन 9 प्रसिद्ध मंदिरों में उमड़ती है भक्तों की भारी भीड़

नई दिल्ली(21 सितंबर): आज से नवरात्र शुरू हो गया है। अगले नौ दिनों तक अब मंदिरों में माता के जयकारे की गूंज सुनाई पड़ेगी। देश के कई ऐसे प्रसिद्ध मंदिर हैं जिनमें नवरात्र के दौरान भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ती है।

- आइए जानते हैं देश के अलग-अलग हिस्सों के साथ ही पाकिस्तान तक में मौजूद इन मंदिरों और उसकी विशेषता के बारे में।

शक्ति की देवी मां दुर्गा- नवरात्र में जिनकी उपासना से सकारात्मक ऊर्जा बहाल होती है। नवरात्र की चर्चा के साथ ही माता की विशाल छवि चेहरे के सामने घूमने लगती है। देश में माता की मंदिरों की भरमार है। जहां भक्त पूरी श्रद्धा के साथ शीश नवाते हैं। लेकिन अगर बात प्रसिद्ध मंदिरों की करें तो 9 ऐसे मंदिर हैं जिनकी अपनी-अपनी विशेषता है।

1. वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू-कश्मीर

माता का नाम लेते ही वैष्णो देवी की तस्वीर मन में घूमने लगती है। ये मंदिर जम्मू-कश्मीर के वैष्णो देवी की पहाड़ी पर मौजूद है। मान्यता है कि माता वैष्णो देवी हर किसी की मनोकामना पूरी करती हैं। यही वजह है कि यहां साल भर भक्तों का आना-जाना लगा रहता है। 

2. ज्वाला देवी मंदिर, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में पहाड़ पर बने ज्वाला देवी मंदिर 51 शक्तिपीठों में शामिल है। यहां माता सती की जीभ गिरी थी। इस मंदिर में माता के दर्शन ज्योत के रूप में होते हैं। यहां मौजूद अखंड ज्योत इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है जो सदियों से जल रही है। इसका राज आज तक वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए हैं। 

3. नैना देवी मंदिर, उत्तराखंड

उत्तराखंड के नैनीताल में नैनी झील के उत्तरी किनारे पर मौजूद नैना देवी मंदिर में सती के शक्ति रूप की पूजा की जाती है। इस झील में माता सती की आंखें गिरी थी। इसी के चलते यहां नैना देवी मंदिर का निर्माण कराया गया। नवरात्र के दौरान यहां भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

4. कामख्या मंदिर, असम

असम के गुवाहाटी कामख्या मंदिर का 51 शक्तिपीठों में सबसे खास स्थान है। देवी सती के इस मंदिर को लेकर पौराणिक तथ्य ये है कि अम्बूवाची पर्व के दौरान यहां मां भगवती की गर्भ गृह स्थित महामुद्रा से लगातार तीन दिनों तक जल की जगह रक्त प्रवाहित होता है। 

5. मैहर देवी मंदिर, मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश के सतना में मौजूद मैहर देवी मंदिर भी माता के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। मान्यता है कि इस मंदिर में पूजा-अर्चना के लिए आल्हा नाम का ऐसा भक्त आता है जो सैकड़ों साल पहले दुनिया से विदा ले चुका है। नवरात्र में यहां मेला भी लगता है... जिसमें बड़ी तादाद में लोग पहुंचते हैं।

6. मनसा देवी मंदिर, उत्तराखंड

उत्तराखंड के हरिद्वार में मौजूद मनसा देवी मंदिर माता के प्रसिद्ध मंदिरों में शामिल है। मनसा देवी को मुरादों की देवी माना जाता है। नवरात्र के दौरान इस मंदिर में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ता है।

7. झंडेवालान मंदिर, दिल्ली

देश की राजधानी दिल्ली में मौजूद झंडेवालान माता के प्रसिद्ध मंदिरों में शामिल है। यहां देवी की एक प्राचीन मूर्ति मिली थी। जिसके बाद यहां मंदिर बनवाया गया। यहां ऐसा ऊंचा झंडा स्थापित किया गया था जो कई किलोमीटर दूर से ही साफ देखा जा सकता था। इसलिए इसे झंडेवालान देवी मंदिर कहा जाने लगा।

8. करणी माता मंदिर, राजस्थान

राजस्थान के बीकानेर से 30 किलोमीटर दूर मौजूद करणी माता का मंदिर है। माता करणी को दुर्गा का साक्षात अवतार माना जाता है। कहा जाता है कि इस मंदिर की रक्षा यहां मौजूद 20 हजार चूहे करते हैं। मान्यता है कि इन चूहों पर करणी माता की विशेष कृपा है।

9. हिंगलाज मंदिर, पाकिस्तान

भारत के अलावा पाकिस्तान में भी माता का प्रसिद्ध मंदिर है। कराची से 120 किलोमीटर दूर मौजूद हिंगलाज मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है। यहां सती माता का सिर गिरा था। ये वो मंदिर है जिसके बारे में मान्यता है कि यहां श्रीराम ने तपस्या कर रावण की हत्या के पार धोए थे।