टोल प्लाजा पर 'फास्टैग' को बढ़ावा, नकद भुगतान पर धीमा लेन से जाना होगा !

Toll-Plazaन्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (10 जुलाई): टोल प्लाजा पर इलेक्ट्रॉनिक टोलिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार आने वाले दिनों में कई कदम उठा सकती है। बताया जा रहा है कि सरकार टोल प्लाजा पर फास्टैग (FASTags) के जरिये इलेक्ट्रॉनिक टोलिंग को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाने जा रही है। जानकारी के मुताबिक सरकार जल्द ही नकद लेन-देन के लिए लेन की संख्या और राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल प्लाजा पर FASTags वाले वाहनों के लिए विशेष लेन में वृद्धि करेगी। वहीं कैश भुगतान वाले टोल प्लाजा की संख्या में कटौती की जाएगी। ऐसे में टोल प्लाजा पर कैश में भुगतान करने वालों को लंबी कतारों का सामना करना पड़ सकता है।

साथ ही परिवहन मंत्रालय टोल प्लाजा पर कैश में भुगतान पर ज्यादा चार्ज लगाने पर भी विचार कर रही है। बताया जा रहा है कि फास्टैग से कैश भुगतान 10 से 12 फीसदी तक महंगा होगा। दरअसल कैश भुगतान के कारण टोल प्लाजा पर लंबी कतारों को कम करने के लिए सरकार ये योजना बना रही है। जानकारी के मुताबिक इसकी महानगरों से हो सकती है। इसमें कैश से टोल पर भुगतान करने वालों से ज्यादा चार्ज लिया जाएगा। यानी यह कैश इस्तेमाल करने पर पेनाल्टी जैसा होगा।

सरकार का मानना कि अतिरिक्त भुगतान के चलते यात्रियों की आदत में बदलाव आ सकता है। इससे वे FASTags (फास्टैग) के जरिये इलेक्ट्रॉनिक टोलिंग अपनाने की दिशा में आगे बढ़ेंगे। सरकार ने इस योजना को अमलीजामा पहनाया तो कैश से भुगतान करने वालों को नुकसान होगा। आपको बता दें कि अभी ई-टोलिंग यानी इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भुगतान पर डिस्काउंट मिलता है। कैश टोलिंग के कारण टोल प्लाजा पर भीड़ लगती है। अभी तक इलेक्ट्रॉनिक टोलिंग के लिए छूट है। अब इस दिशा में और आगे बढ़ने का फैसला किया गया है। फिलहाल प्रत्येक एनएच टोल प्लाजा में दो फास्टैग एक्सप्रेस लेन हैं। सूत्रों  से मिल रही जानकारी के मुताबिक सड़क परिवहन मंत्रालय जल्द ही एनएच टोल शुल्क नियमों में बदलाव करेगा और टोल प्लाजा पर नकद भुगतान को समाप्त करेगा और धीरे-धीरे एनएच नेटवर्क पर सभी टोल प्लाजाओं में कम नकदी लेनदेन के लिए जा सकता है।