अब बैंक का काम भी करेगी राशन की दूकान

नई दिल्ली (20 सितंबर): केंद्र सरकार बैंकिंग सेवाओं के विस्तार में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के मजबूत नेटवर्क को इस्तेमाल करने पर विचार कर रही है। जल्द ही 5.5 लाख सरकारी राशन की दुकानों में से 55 हजार को इस प्रोजेक्ट के साथ जोड़ा जाएगा। वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पीडीएस को बैंकिंग उपस्थिति के केंद्र के तौर पर इस्तेमाल करने का इरादा है।

पीडीएस दुकान में प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) टर्मिनल में जाकर ग्राहक खाते तक पहुंच हासिल कर सकेंगे। इसी दिशा में बढ़ने की योजना है। योजना के तहत पीडीएस नेटवर्क बैंकों के लिए बिजनेस करेस्पांडेंट की तरह काम करेगा। 

सभी पीडीएस दुकानें राज्य सरकारें चलाती हैं। खाद्य सुरक्षा प्रणाली के हिस्से के रूप में इनमें सस्ती दरों पर विशेषकर खाद्य वस्तुएं बेची जाती हैं। इनमें गेहूं, चावल, चीनी के अलावा केरोसिन भी बेचा जाता है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि अभी डेढ़ लाख राशन दुकानों में हाथ से चलने वाली ऐसी मशीनें हैं, जो लाभार्थी की पहचान में मदद करती हैं। साथ ही जिनके वे हकदार हैं, उन वस्तुओं की सूची भी देती हैं। साधारण सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर अपग्रेड से इन्हीं मशीनों को बैंक की कोर बैंकिंग प्रणाली के साथ जोड़ा जा सकता है।