नासा ने मंगल पर भेजा 'इनसाइट', इंसान भेजने की तरफ बढ़े कदम

नई दिल्ली (05 मई): शनिवार को नासा ने मंगल ग्रह के लिए 'इनसाइट' नाम का नया मार्स लैंडर प्रक्षेपित किया। इसे मंगल पर मानव मिशन से पहले उसकी सतह पर उतरने और वहां आने वाले भूकंप को मापने के लिए डिजाइन किया गया है। अंतरिक्ष यान को एटलस वी रॉकेट के ज़रिये कैलिफोर्निया स्थित वंडेनबर्ग वायुसेना अड्डा से अंतरराष्ट्रीय समय शाम 4 बजकर 35 मिनट पर लॉन्च किया गया।

यह परियोजना 99. 3 करोड़ डॉलर की है, जिसका लक्ष्य मंगल की आंतरिक परिस्थितियों के बारे में जानकारी बढ़ाना है। साथ ही, लाल ग्रह पर मानव को भेजने से पहले वहां की परिस्थितियों का पता लगाना और पृथ्वी जैसे चट्टानी ग्रहों के निर्माण की प्रक्रिया को समझना है। यदि सब कुछ योजना के मुताबिक रहता है तो लैंडर 26 नवंबर को मंगल की सतह पर उतरेगा। 'इनसाइट' का पूरा नाम इंटीरियर एक्सप्लोरेशन यूजिंग सिस्मिक इन्वेस्टिगेशंस है।नासा के मुख्य वैज्ञानिक जिम ग्रीन ने कहा कि विशेषज्ञ पहले से जानते हैं कि मंगल पर भूकंप आए हैं, भूस्खलन हुआ है और उससे उल्का पिंड भी टकराए हैं। ग्रीन ने कहा कि मंगल भूकंप का सामना करने में कितना सक्षम है? हमें जानने की जरूरत है। अंतरिक्ष यान पर मुख्य उपकरण सिस्मोमीटर है, जिसे फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी ने बनाया है।  

2030 तक मंगल पर लोगों को भेजने की नासा की कोशिशों के लिए वहां का तापमान समझना महत्वपूर्ण है। सौर ऊर्जा और बैटरी से ऊर्जा पाने वाला लैंडर को 26 महीने संचालित होने के लिए डिजाइन किया गया है।