आईओए के इस बयान से नरसिंह को मिली राहत

नई दिल्‍ली (28 जुलाई): रियो ओलंपिक जाने से पहले डोपिंग विवाद में फंसे रेसलर नरसिंह यादव के लिए राहत भरी खबर है। भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) ने कहा कि अगर नरसिंह को डोपिंग प्रकरण में नाडा (नेशनल ऐंटी डोपिंग एजेंसी) द्वारा हरी झंडी मिल जाती है तो रियो ओलिंपिक में प्रवीण राणा की जगह उनके खेलने से उसे कोई आपत्ति नहीं होगी।

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने 74 किलोग्राम फ्रीस्टाइल कोटा स्थान के लिये प्रवीण राणा को चुना है, क्योंकि नरसिंह को प्रतिबंधित दवा के सेवन के टेस्‍ट में पॉजिटिव पाया गया था। नरसिंह मामले की सुनवाई नाडा अनुशासनात्मक पैनल द्वारा की जा रही है।

आईओए के महासचिव राजीव मेहता ने कहा, 'आईओए डाकखाने की तरह है। हम सुविधा मुहैया कराने वाले हैं। हमने डब्ल्यूएफआई की इच्छा पर नरसिंह की जगह प्रवीण राणा को नामांकित किया, जिसे युनाइटेड विश्व कुश्ती ने भी स्वीकार कर लिया है।' उन्होंने कहा, 'अगर डब्ल्यूएफआई नरसिंह को दोबारा भेजना चाहता है, बशर्ते इस पहलवान को नाडा पैनल से पसंदीदा फैसला मिल जाता है और अंतरराष्ट्रीय महासंघ इस पर सहमत होता है तो हम आपत्ति क्यों करेंगे। हमें इसमें कोई परेशानी नहीं है और ऐसे में हम नरसिंह को ओलिंपिक में जाने की अनुमति दे देंगे।'