नारायण राणे ने विधायक पद के साथ-साथ छोड़ी कांग्रेस पार्टी

विनोद जगदाले, मुंबई (21 सितंबर): महाराष्‍ट्र कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए प्रदेश के पूर्व सीएम नारायण राणे ने विधायक पद के साथ-साथ पार्टी का दामन भी छोड़ दिया है। राणे ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि 2005 में दिए हुए अपने वचन का पालन नहीं किया।

राणे ने कहा कि कांग्रेस ने उस समय मुझे मुझे वचन दिया गया कि अगर प्रदेश में पार्टी जीतती है तो मुझे मुख्यमंत्री बनाया जाएगा, लेकिन नहीं बनाया गया। कांग्रेस पार्टी ने अपने वचन का पालन नहीं किया, जिस कारण से मुझे पार्टी को छोड़ना पड़ा।

इससे पहले राणे ने कांग्रेस के प्रदेश अध्य़क्ष और सांसद अशोक चौहान पर साजिश करने का आरोप लगाया था। उनके अनुसार अशोक चौहान उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं। नारायण राणे के इस बयान के बाद अशोक चौहान तो बोलने से बच रहे हैं, लेकिन कांग्रेस ने नेता हुसैन दलवाई ने राणे पर निशाना साधा।

पिछले दिनो राणे के बीजेपी में जाने की चर्चा जोरों पर थी, लेकिन अब तक उस में आधिकारिक मुहर बीजेपी की तरफ से नहीं लगी है। अब लोगों की निगाहे राणे के अगले कदम पर है।